मेरठ, जेएनएन। प्लेटलेट्स बढ़ाने के नाम पर स्वजन को एक युवक ने नकली जंबो पैक थमा दिया। चिकित्सक को शक हुआ तो उन्होंने जांच कराई, जिसके बाद हकीकत सामने आ गई। गनीमत रही कि जंबो पैक चढ़ने के बाद भी युवक की तबीयत खराब नहीं हुई। इसकी शिकायत स्वजन ने चिकित्सा अधिकारियों से की है।

सरधना के नवाबगढ़ी निवासी इमरान की एक सप्ताह पहले तबीयत खराब हुई और जांच में डेंगू की पुष्टि हुई थी। चार दिन पहले बेगमपुल के पास स्थित दत्त नर्सिंग होम में भर्ती कराया था। बुधवार को स्वजन ने आनलाइन प्लेटलेट्स की तलाश शुरू की। नाजिम नाम के युवक का नंबर मिला, जिससे 19 हजार पांच सौ रुपये में बात तय हो गई। स्वजन ने युवक को पूरे रुपये दिए, जिसके बाद उसने जैदी सोसायटी में बुलाया। हालांकि बाद में युवक अस्पताल के पास ही जंबो पैक देने के लिए आ गया। रात में प्लेटलेट्स चढ़ी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। स्वजन ने बताया कि प्लेटलेट्स 15 हजार ही रही, जबकि 30 से 35 हजार हो जानी चाहिए थी। चिकित्सक ने जांच कराई तो पैक नकली निकला। युवक को फोन किया तो वह मिलने से आनाकानी करने लगा। पैक पर लगी स्लिप के आधार पर स्वजन ब्लड बैंक पर पहुंचे तो वहां के कर्मचारियों ने सप्लाई से इन्कार कर दिया। इसके बाद स्वजन ने चिकित्सा अधिकारियों से शिकायत की है। पांच माह पहले भी आया था मामला

पांच माह पहले हापुड़ रोड स्थित एक अस्पताल में भी इसी तरह का मामला सामने आया था। चिकित्सक को शक हुआ तो उन्होंने भी जांच कराई थी, जिसमें सैंपल फेल हो गया था। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से शिकायत की गई थी। इनका कहना है.......

ब्लड बैंकों से रोजाना रिपोर्ट ली जा रही है। नकली जंबो पैक व रक्त बेचना खतरनाक और गुनाह है। खरीदने वाले भी स्वास्थ्य विभाग या चिकित्सक से पुष्टि करें। खाद्य विभाग से ब्लड बैंकों की भी सैंपलिंग कराई जाएगी।

डा. अखिलेश मोहन, सीएमओ

Edited By: Jagran