मेरठ, जागरण संवाददाता। सोतीगंज में चोरी के वाहनों का कमेला बंद कराने के बाद पुलिस अब कबाड़ियोंं में सुरक्षा और भरोसा भरकर कारोबार के नए द्वार खोलने का प्रयास कर रही है। जिसके तहत सदर बाजार थाने में बुधवार से उनके लिए 15 दिवसीय रोजगार मेले का आयोजन किया जा रहा है। जिससे वाहन चोरी का धंधा छोड़कर सभी कबाड़ी स्वरोजागर कर सकें।

पहले दिन 50 कबाड़ियों  को बुलाया 

बुधवार सुबह दस बजे से शुरू होने वाले मेले में डिप्टी कमिश्नर इंडस्ट्रीज, बैंक के एलडीएम, वोकेशनल ट्रेनिंग विभाग और पीओ डूडा के अधिकारी मौजूद रहेंगे, जो कबाडिय़ों को स्वरोजगार के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। एएसपी सूरज राय ने बताया कि सदर बाजार थाने में लगने वाले रोजगार मेले में पहले दिन शपथ पत्र दे चुके 50 कबाडिय़ों को बुलाया गया है। इसके बाद रोज अलग-अलग कबाडिय़ों को बुलाकर समझाया जाएगा। उन्हें दूसरे कारोबार के मुनाफे के बारे में भी जानकारी दी जाएगी। कारोबार के संबंध में कबाड़ी भी अपनी इच्छा भी बता सकते हैं। उनका जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी कराया जाएगा।

कारोबार बदलने वाले कबाड़ी कर सकते है दुकान खाली

कारोबार बदलने के लिए शपथ पत्र दे चुके कबाड़ी अपनी दुकानें और गोदामों को खाली कर सकते है। वह वाहनों के उपकरण स्क्रेप में बेच सकते है। ताकि उक्त दुकानों में दूसरा कारोबार किया जा सक। दुकानों से सामान पुलिस की मौजूदगी में निकाला जाएगा। एएसपी ने बताया कि पुलिस सोतीगंज में दूसरा कारोबार शुरू कर कबाडियों को आबाद करना चाहती हैं।

एएसपी ने एक कबाड़ी के बेटे का एडमिशन कराकर की मदद

मंगलवार को सोतीगंज में रहने वाले कबाडिय़ों की पत्नी एएसपी सूरज राय से मिली। उनका कहना था कि कारोबार बंद होने से बच्चों की पढ़ाई भी मुश्किल हो गई है। यह जानकारी मिलने पर एएसपी ने एमपीएस स्कूल में एक बड़े कबाड़ी के पोते का एडमिशन करा दिया। ताकि वह अपनी पढ़ाई कर सके। एएसपी ने बताया कि यही कारण है कि कबाडिय़ों को दूसरा रोजगार दिलाने की कवायद की जा रही है। ताकि वह अपने परिवार को चला सकें।

इनका कहना है..

चोरी का धंधा छुड़वाने के बाद कबाडिय़ों को दूसरा कारोबार कराने में मदद की जा रही है। ताकि वह अपने परिवार को चला सके। उसके लिए ही 15 दिवसीय मेले का सदर बाजार थाने में बुधवार से आयोजन किया जा रहा है।

-प्रभाकर चौधरी, एसएसपी।

Edited By: Parveen Vashishta