जागरण संवाददाता, मेरठ। डेंगू के संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने ब्लड बैंकों को ब्लड कंपोनेंट बढ़ाने के लिए कहा है। स्टेट ब्लड ट्रांसफ्यूजन काउंसिल की ज्वाइंट डायरेक्टर डा. गीता अग्रवाल ने मंगलवार को मेरठ का दौरा कर ब्लड बैंकों की समीक्षा की। आधे से ज्यादा ब्लड बैंकों ने रक्त यूनिटों की उपलब्धता को अपडेट नहीं किया है। 13 से 17 तारीख तक 11 ब्लड बैंकों को सौ-सौ यूनिट रक्त जुटाने के लिए कहा है। उत्तर प्रदेश में 378, जबकि मेरठ में 17 ब्लड बैंक हैं, जिसमें सिर्फ आठ का रिकार्ड बेबसाइट पर अपडेट किया गया है। मेडिकल कालेज में सर्वाधिक 789, जबकि जिला अस्पताल में 432 यूनिट फ्रेश फ्रोजन प्लाज्मा उपलब्ध है। शासन ने अपडेट न करने को लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग से रिपोर्ट तलब की है। मेडिकल कालेज एवं जिला अस्पताल समेत सभी ब्लड बैंकों में कोरोना की वजह से रक्तदान शिविर लगाए नहीं जा सके, जिसकी वजह से ब्लड यूनिटों की भारी कमी पड़ गई। होल ब्लड की जगह अब ब्लड कंपोनेंट बढ़ाने पर जोर है। मेरठ में 11 ब्लड बैंकों में रक्तदान कैंप लगेंगे।

फ्रेश फ्रोजन प्लाज्मा..

प्लाज्मा रक्त में मिलने वाला पीले रंग का पदार्थ है। इसे -30 डिग्री पर रखा जाता है। इससे कई कंपोनेंट निकाले जाते हैं, जिसका इलाज में प्रयोग होता है। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने कहा कि ब्लड बैंकों में रक्त यूनिटों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए कहा गया है। डेंगू के मरीजों में प्लेटलेट चढ़ानी पड़ सकती हैं, जिसकी तैयारी की जा रही है। हालांकि अभी तक मरीजों की स्थित सामान्य बनी हुई है।

16 जगह मिला लार्वा: जिला मलेरिया विभाग द्वारा चलाए जा रहे एंटी लार्वा अभियान के तहत टीमों को विभिन्न 16 स्थानों पर मच्छर का लार्वा मिला है। जिसको लेकर विभाग ने संबंधित लोगों को नोटिस दिया है। मच्छर के लार्वा नष्ट करने को लेकर लोगों द्वारा कदम न उठाने पर विभाग उनके खिलाफ कार्रवाई करेगा। 

Edited By: Himanshu Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट