मेरठ, जागरण संवाददाता। Dengue In Meerut मेरठ में डेंगू का वायरस खतरनाक तरीके से बढ़ रहा है। मेडिकल कालेज की रिपोर्ट के मुताबिक 15-20 फीसद सैंपलों में डेंगू मिल रहा है। 2017 की तुलना में इस बार मरीजों की संख्या दोगुनी से ज्यादा होने की आशंका है। मेरठ में पहली बार ऐसा हुआ, जब ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में बराबर संख्या में डेंगू मरीज मिले हैं।

संक्रमण दर बढ़ रही

मेडिकल कालेज के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डा. अरविंद ने बताया कि ज्यादातर वायरल बुखार में समान लक्षण मिलते हैं, लेकिन कुछ अलग लक्षणों के आधार पर डेंगू की पहचान की जाती है। तेज बुखार, ठंड, जोड़ों में तेज दर्द, आंख के पिछले हिस्से में दर्द और कमजोरी मिलने पर ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजा जाता है। मेडिकल कालेज की माइक्रोबायोलोजी लैब के इंचार्ज डा. अमित गर्ग ने बताया कि रोजाना करीब 70 सैंपल की जांच में से 10-15 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो रही है। संक्रमण की दर लगातार बढ़ रही है। निजी लैब में रैपिड कार्ड से बीमारी की जांच की जाती है, वहीं माइक्रोबायोलोजी लैब में एलाइजा यानी आइजीएम और एनएस-1 एंटीजन विधि से जांच की जा रही है।

बीमारी का लक्षण क्या

- सामान्य डेंगू : बुखार, बदन दर्द, सिरदर्द, शरीर में ऐंठन, थकान

- गंभीर डेंगू : बीपी और प्लेटलेट गिरना। हीमोग्लोबिन का अचानक बढऩा। बेहोशी। उल्टी, दस्त एवं नाक, मुंह और कान से रक्तस्राव।

कैसे फैलता है डेंगू

ज्यादातर सुबह और शाम को उडऩे वाले एडीज एजिप्टी नामक मच्छर के काटने से डेंगू संक्रमण शरीर में पहुंचता है। यह धारीदार मच्छर शरीर पर तिरछा बैठता है। पांच फुट से ज्यादा ऊंचाई पर नहीं उड़ता। एक किमी से दूर नहीं जाता।

कैसे बचाव करें

- सोते समय मच्छरदानी और घर से निकलने पर एंटीमास्किटो क्रीम लगाएं। फुल बाजू की शर्ट पहनें। धारीदार मच्छरों के शरीर पर बैठने पर सतर्क हो जाएं।

बुखार से बच्ची की मौत गांव में बढ़ रहे डेंगू के रोगी

मेरठ के खरखौदा में कैली गांव में डेंगू रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। गुरुवार को बुखार से दो माह की बच्ची की मौत हो गई। इससे गांव में खलबली मची है। कैली गांव में एक पखवाड़े से डेंगू के रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने दो बार शिविर भी लगाया व गांव में कीटनाशक का छिड़काव भी कराया, लेकिन बुखार के रोगी कम नहीं हो रहे।

गांवों में स्वास्थ्य विभाग का शिविर

गुरुवार को गांव में दो माह की बच्ची आदिबा पुत्री शाहरुख की बुखार से मौत हो गई। स्वजन का कहना है कि दो दिन से बुखार आने पर उसे हापुड़ में चिकित्सक के यहां भर्ती कराया था, जहां से मेरठ रेफर कर दिया। उपचार के दौरान गुरुवार को मेरठ के अस्पताल में मौत हो गई। सीएचसी प्रभारी डा. आरके सिरोहा का कहना है कि गांव में बुखार रोगियों की जांच की गई थी। जांच, उपचार व जागरूकता के लिए गांवों में स्वास्थ्य विभाग शिविर लगा रहा है।

Edited By: Prem Dutt Bhatt