बुलंदशहर, जागरण संवाददाता। सुरालियों ने महिला को उसके तीन बच्चों सहित घर से निकाल दिया। उत्पीडऩ पर महिला घर से निकलकर ससुरालियों के खिलाफ बच्चों के साथ सड़क पर धरने पर बैठ गई।

नगर कोतवाली क्षेत्र के सेख सराय निवासी गुड्डन देवी अपनी दो बेटी (16) तानिया, (11) वैष्णवी तथा (9) अभिषेक के साथ अंबर सिनेमा के नजदीक सड़क के बीच धरने पर बैठ गई। गुड्डन और उसके मासूम बच्चों के आंसू पौंछने के लिए ढाई घंटे तक कोई नहीं आया। इस बीच बाजार में वाहनों का आवागमन बढऩे और लोगों के एकत्र होने से मौके पर जाम लग गया। महिला और बच्चों को सड़क पर धरना देते देख पुलिस के होश उड़ गए। डिप्टीगंज चौकी इंचार्ज ने गुड्डन को उसका अधिकार दिलाने और मारपीट के आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन देकर धरना समाप्त कराया।

यह है मामला

गुड्डन ने बताया कि मूल रूप से पुरानी घाट मंडी औरंगाबाद निवासी है। 19 वर्ष पूर्व उसकी शादी छत्रपाल से हुई थी। 10 वर्ष पूर्व छत्रपाल सिंह की उस समय मौत हो गई जब वह अमरनाथ यात्रा से लौट रहे थे। स्वजन ने उसकी शादी छत्रपाल के छोटे भाई योगेंद्र उर्फ बबलू से कर दी थी। आरोप है कि छत्रपाल की मौत से मिली आर्थिक मदद 24 लाख रुपये भी ससुरालियों ने हड़प लिए। बताया कि अब पैसे खत्म होने और योगेंद्र के बीमार होने पर मायके से पैसे मंगाने का दबाव दे रहे हैं। देर शाम तक पीडि़ता ने तहरीर नहीं दी थी।

इन्होंने कहा...

महिला और उसके बच्चों के सड़क पर बैठने की सूचना मिली है। चौकी इंचार्ज भेजे गए हैं। पीडि़ता की हर संभव मदद की जाएगी।

-संजीव कुमार शर्मा, नगर कोतवाल।

Edited By: Parveen Vashishta