मेरठ, जागरण संवाददाता। गोविंदपुरी गांव में पति से विवाद के बाद विवाहिता घर से गायब हो गई। शाम को उसका और दो नवजात बेटियों का शव खरखौदा संपर्क मार्ग पर सड़क किनारे पेड़ से लटका मिला। पुलिस मामले को आत्महत्या मानकर चल रही है। पुलिस ने तीनों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

यह है मामला

गोविंदपु़र गांव में शौकत का परिवार निवास करता है। शौकत के चार बेटे शहजाद, मुस्ताक,फरमान और रिजवान है। शहजाद और मुस्ताक की शादी हो गई। शौकत चारों बेटों और पत्नी फरजाना के साथ रहता है। मुस्ताक और उसकी पत्नी आयशा में काफी दिनों से विवाद चल रहा था। मुस्ताक गाड़ी पर चालक है। मंगलवार को भी दोनों में विवाद हुआ। मुस्ताक का कहना है कि उसने घर में आग लगाने का प्रयास किया। जिसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस के आने से पहले ही आयशा अपनी दो वर्षीय आइफा और छह माह की अलफिशा के साथ गायब हो गई। पुलिस ने स्वजन के साथ काफी खोजने का प्रयास किया। शाम करीब चार बजे आयशा और दोनों बेटियों का शव खरखौदा संपर्क मार्ग पर गांव के आधा किमी दूरी पर सड़क किनारे एक पेड़ से लटका मिला। दोनों बच्चों के शव रस्सी के फंदे में तराजू की तरह झूल रहे थे। वहीं, दूसरी रस्सी के फंदे में आयशा का शव था। पुलिस मामले को आत्महत्या मानकर चल रही है।

बच्‍च‍ियों की हत्‍या कर लगाई फांसी

ग्रामीणों का कहना है कि महिला विवाद के बाद घर से चली गई। प्रथम दृष्‍टया देखने में लग रहा है कि महिला न पहले दोनों बच्चों की हत्या की। उसके बाद फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने पुछताछ के लिए पति मुस्ताक को हिरासत में लिया है। स्वजन का रो रोकर बुरा हाल है। सीओ किठौर अमित कुमार राय का कहना है कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद जांच करके मामले की कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Taruna Tayal