मेरठ, जेएनएन। चार्ज लेने के छह घंटे बाद ही एडीजी राजीव सभरवाल ने जोन के सभी कप्तानों की मीटिग ली। सभी के साथ लॉकडाउन खुलने की स्थिति को लेकर प्लान बनाया। उनका मानना है कि लॉकडाउन खुलने पर अपराध बढ़ेगा। ऐसे में पुलिस को तैयार रहने की जरूरत है। एडीजी ने सभी कप्तानों को स्पष्ट कर दिया कि कोरोना संक्रमण के दौरान ड्यूटी देने वाले पुलिसकर्मियों को नाश्ता देकर उनका मनोबल बढ़ाए।

शाम को चार बजे अपने ऑफिस में एडीजी राजीव सभरवाल ने मेरठ और सहारनपुर रेंज के सभी कप्तानों को बुलाया। कोरोना संक्रमण से जोन की क्या स्थिति है, उसके बारे में विस्तार से बातचीत की गई। कप्तानों को आदेश दिया कि खुद ड्यूटी प्वाइंटों को चेक करें, मास्क या बिना फेस शील्ड के कोई भी पुलिसकर्मी ड्यूटी न करें। उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन किया जाए। सरकार के एजेंड पर पुलिस पूरी तरह मुस्तैदी के साथ काम करें। पर्यटक वीजा पर आये एवं तबलीगी जमात में शामिल हुए विदेशी द्वारा वीजा उल्लंघन में हुई कार्रवाई को ब्योरा लिया। उसके बाद सभी को आदेश दिया की नियमानुसार कार्रवाई करें। एडीजी ने सभी कप्तानों का कहा कि ऐसे विदेशी नागरिकों को चिन्हित करें, जो लॉकडाउन की वजह से अपने देश नहीं जा सकें। साथ ही तीन माह में पड़ने वाले प्रमुख त्योहारों की सूची तैयार कर व्यवस्था सुनिश्चित कराए। इस मौके पर आइजी प्रवीण कुमार, डीआइजी उपेंद्र अग्रवाल, एसएसपी अजय साहनी समेत जोन के सभी कप्तान मौजूद रहे। ये भी दिशा निर्देश जारी किए :

1. सरकार की मंशा के मुताबिक, भ्रष्टाचार पर पूर्णतय अंकुश लगाएं।

2. महिलाओं के प्रति अपराध रोकने को प्राथमिकता दें सभी कप्तानों।

3. जनपदों में चिन्हित गैंग के सदस्यों की गतिविधियों की समीक्षा करें।

4. विवेचना पूर्णतय गुण और दोष के आधार पर हो, प्रत्येक सप्ताह इसकी समीक्षा जनपद में की जाए।

5. पुलिस लाइन/थानों में टीयर गैस सेल की सक्रियता को चेक कराएं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस