मेरठ,जेएनएन। CAA Protest यूपी एटीएस की टीम ने पीएफआइ के शातिर सदस्य मुफ्ती शहजाद को गाजियाबाद जिले के मुरादनगर से गिरफ्तार कर लिया। 20 दिसंबर को मेरठ में हुई हिंसा में शहजाद की प्रमुख भूमिका थी। उसके खिलाफ नौचंदी थाने में मुकदमा दर्ज था और छह माह से वह वांछित चल रहा था। पूछताछ के बाद एटीएस ने शहजाद को स्थानीय पुलिस के हवाले कर दिया। अभी शहजाद का दूसरा साथी परवेज पुलिस गिरफ्त से दूर है। 

पीएफआइ के सदस्यों के मंसूबों को भांप नहीं पाई थी

20 दिसंबर को सीएए के विरोध में हुई हिंसा की मुख्य प्लानिंग पीएफआइ के सदस्य मुफ्ती शहजाद निवासी नेकपुर मुरादनगर गाजियाबाद ने की थी। हिंसा से पहले ही शहजाद ने नौचंदी थाने के शास्त्रीनगर में दफ्तर खोला था, जो लोगों को सीएए के विरोध में भड़का रहा था। उसमें उसके साथी परवेज की भी अहम भूमिका सामने आ रही है। नौचंदी पुलिस ने परवेज और शहजाद पर मुकदमा दर्ज किया था। उनके ऑफिस से हिंसा भड़काने वाले पोस्टर और बैनर भी मिले थे। कई ई-रिक्शाओं पर पोस्ट बैनर लगाकर यह लोग प्रचार भी कर चुके थे। उस समय स्थानीय खुफिया इकाई पीएफआइ के सदस्यों के मंसूबों को भांप नहीं पाई थी। हिंसा के बाद हुई जांच में सामने आया कि शहजाद और परवेज ने ही लोगों को हिंसा के लिए तैयार किया था। इतना ही नहीं दोनों ने पीएफआइ की तरफ से फंडिंग भी कराई थी। कुछ लोगों के खातों की जांच में पुलिस इसका पर्दाफाश भी कर चुकी है।

सीएए की हिंसा से संबंधित कुछ दस्तावेज मिले

एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि शहजाद और परवेज दोनों ही काफी दिनों से वांछित चल रहे थे। शनिवार को एटीएस की टीम ने शहजाद को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से अभी भी सीएए की हिंसा से संबंधित कुछ दस्तावेज मिले हैं। सबूत के तौर पर उन्हें सुरक्षित रख लिया है। एटीएस ने शहजाद को नौचंदी पुलिस के हवाले कर दिया। इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार ने बताया कि मेडिकल कराने के बाद शहजाद को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया जाएगा। 

परवेज अभी पकड़ से दूर

शहजाद का साथी परवेज अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। परवेज ने पीएफआइ का मेरठ में ऑफिस खोलकर शहजाद को पार्टनर बनाया था। परवेज ने कोर्ट में सरेंडर की अर्जी भी डाल दी थी। इसके बाद भी अभी तक वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा है। शहजाद से परवेज के बारे में भी पूछताछ की जा रही है। 

शहजाद के खाते में बाहर से आती थी रकम 

सीएए के विरोध में लोगों को भड़काने का काम करने वाले शहजाद के खाते में बाहर से रकम डाली जाती थी। वह यहां के कुछ लोगों को अपने खाते से रकम स्थानांतरण भी कर चुका है। पुलिस व एटीएस की टीम शहजाद और उसके स्वजनों के सभी खाते तलाश रही है।

इनका कहना है...

सीएए के विरोध में हुई हिंसा को भड़काने के आरोपित शहजाद को एटीएस की टीम ने गिरफ्तार किया है। शहजाद बड़ा ही शातिर अपराधी है, जो पुलिस के मूवमेंट से छह माह तक बचता रहा। टीम बनाकर शहजाद से पूरे मामले की जानकारी जुटाई जा रही है। ताकि उसके साथ काम करने वाले अन्य लोगों की जानकारी मिल सकें। - अजय साहनी, एसएसपी।  

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस