सहारनपुर, जेएनएन। कोरोना व लॉकडाउन के बीच आ रहे ईदुल फितर को लेकर दारुल उलूम व जमीयत समेत दीगर उलमा ने मुसलमानों से ईद सादगी से मनाने और शरई शर्तों एवं शासन प्रशासन की तरफ से जारी दिशा निर्देशों को ध्यान में रखकर ही नमाज अदा करने की अपील की है।

घर पर ही ईद मनाएं

दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने कहा कि ईद का त्यौहार सादगी से मनाया जाए। बाजारों में खरीदारी के लिए न जाएं बल्कि इन पैसों से गरीबों की मदद करें। शासन-प्रशासन की गाइडलाइन का पालन करें और अपने घरों पर ही ईद मनाएं। ईद की नमाज के संबंध में फतवा देकर समाज की रहनुमाई भी की जा चुकी है। घर पर ही ईद की नमाज अदा करें। जमीयत उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि ईद की नमाज भी जुमा की नमाज की तरह अदा की जा सकती है। अगर किसी जगह इसकी भी संभावनाएं नहीं है तो ईद की नमाज के बजाय चाश्त की नमाज अलग अलग अदा करने की गुंजाइश है।

लॉकडाउन के नियमों का करें पालन

लॉकडाउन व शारीरिक दूरी के नियम का कड़ाई से पालन करें। जमीयत उलमा-ए-हिंद (मौलाना महमूद मदनी गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कारी उस्मान मंसूरपुरी ने कहा कि सरकार की तरफ से जारी दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए ईद की नमाज अदा की जाए। ईद को साधारण तरीके (सादगी) से मनाएं और मित्रों, सहयोगियों व संबंधियों से मिलने में स्वास्थ्य संबंधी सरकारी दिशा निर्देशों का अवश्य ध्यान रखें। जरूरतमंदों की खूब मदद करें। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस