शामली, जेएनएन। चौसाना धमाके ने जनपदवासियों को दरभंगा (बिहार) रेलवे स्टेशन पर हुए पार्सल विस्फोट की याद दिला दी है। क्योंकि उस विस्फोट में भी कोई नुकसान नहीं हुआ था और गनीमत रही कि यहां भी कोई नुकसान नहीं हुआ। दोनों ही विस्फोट की धमक से दहशत फैल गई थी। अधिकारियों ने घटना को गंभीरता से लिया है।

यह है मामला

थाना झिंझाना का चौसाना वह इलाका है, जो पूरी तरह से खादर है। चौसाना क्षेत्र में ही दो अक्टूबर 2018 को पुलिसकर्मियों पर हमला कर खालिस्तानी समर्थकों ने इंसास रायफल लूट ली थी। आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद बड़ा राजफाश हुआ था। इस घटना के आरोपितों को एनआइए सजा करा चुकी है। अब चौसाना क्षेत्र में दुकान में रखे थैले में विस्फोट हुआ है। भले ही विस्फोट से कोई जान माल का नुकसान न हुआ हो, लेकिन विस्फोट की धमक प्रदेश मुख्यालय तक पहुंची है। पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव भी मौके पर पहुंचे थे। यह बात अलग है कि पुलिस अफसरों के सामने कोई दुकानदार या आम आदमी इस बारे में खुलकर नहीं बोल रहा है, लेकिन दबी जुबान से लोग चर्चा कर रहे हैं कि लो, बताओ, कैराना के दो भाई सहित चार लोग दरभंगा रेलवे स्टेशन पर पार्सल में हुए विस्फोट में गिरफ्तार हो चुके हैं, अब हमारे यहां विस्फोट हुआ है। कहीं यहां भी स्लीपिंग माडयूल्स तो छिपे हुए नहीं हैं?

सीसीटीवी खंगाला

सूत्र बताते हैं कि घटना स्थल से चंद कदमों की दूरी पर एक दुकान पर सीसीटीवी लगा है। पुलिस अधिकारियों ने उसे खंगाला है। उसमें एक युवक को पीडि़त दुकानदार ने पहचाना है। उसके अलावा भी कई संदिग्ध युवकों को देखा जाना क्षेत्र में चर्चा बना है। पुलिस अधीक्षक ने भी सीसीटीवी की मदद से कुछ संदिग्ध युवकों की पहचान कराकर कार्रवाई की बात कही है।

आखिर क्या था उदेश्य

विस्फोट को लेकर कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं। कुछ लोगों का कहना था कि विस्फोट से कोई किसी प्रकार का संदेश तो नहीं देना चाह रहा है।

Edited By: Taruna Tayal