मेरठ, जेएनएन। ब्लैक फंगस की महामारी नियंत्रित हो रही है। सप्ताहभर पहले मेडिकल कालेज में मरीजों की संख्या सौ तक पहुंच गई थी, जो अब 26 रह गई है। रोजाना दस नए मरीज भर्ती हो रहे थे, लेकिन रविवार को महज एक नया मरीज पहुंचा। दो दिन पहले एक फंगस मरीज की मौत हुई थी। अब तक 30 की जान जा चुकी है। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि फंगस के मरीजों में से छह की स्थिति गंभीर है। उन्हेंं आइसीयू में भर्ती किया गया है। वार्ड में भर्ती 26 में से सात कोरोना संक्रमित हैं।

अब तक 224 डिस्‍चार्ज हुए

वहीं मेरठ के सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि जिले में कुल 294 मरीज मिल चुके हैं, वहीं अब तक 224 को डिस्चार्ज किए गए। सरकारी एवं निजी अस्पतालों को मिलाकर सिर्फ 46 एक्टिव मरीज रह गए हैं। आनंद अस्पताल में सर्वाधिक 38, जबकि न्यूटिमा एवं जसवंत राय में 13-13 मरीजों का इलाज हुआ। लोकप्रिय अस्पताल में 12 और मेरठ किडनी सेंटर में नौ मरीजों को भर्ती किया गया था। मेडिकल कालेज के ब्लैक फंगस वार्ड के प्रभारी डा. वीपी सिंह ने कहा है कि 30 मरीजों का आपरेशन किया जा चुका है। एंफोटेरिसिन-बी एवं पोसोकोनोजोल जैसी दवाएं भरपूर मात्रा में उपलब्ध हो गई हैं। कहा कि कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों को ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे मरीजों में प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिसकी वजह से कई संक्रमण पकड़ सकते हैं।

14 नए मरीज,चार की मौत

मेरठ में रविवार को 14 नए मरीजों में संक्रमण पाया गया है। जबकि रविवार को ही 57 लोग डिस्चार्ज कर दिए गए हैं। फिलहाल मेरठ में एक्टिव मरीजों की संख्या अब 304 रह गई है। रविवार को कोरोना से दम तोडऩे वालों की संख्या चार दर्ज की गई। बता दें कि रविवार को 4895 सैंपलों की जांच की गई थी। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि अब भी मेरठ में 80 मरीज अस्पताल में इलाज ले रहे हैं जबकि 145 होम आइसोलेशन में हैं।

Edited By: Prem Dutt Bhatt