मेरठ, जेएनएन। बिसौला गांव में ट्यूबवेल पर तमंचा फैक्ट्री चलाने वाले पांचों आरोपितों को पुलिस ने जेल भेज दिया। सोमवार को पुलिस ने अधबने तमंचे, बंदूक व अन्य उपकरण बरामद किए। पूछताछ में आरोपितों ने पुलिस को बताया कि विधानसभा चुनाव के मद्देनजर फैक्ट्री में बनाए गए तमंचे व अन्य हथियार मेरठ समेत कई जनपदों में खपाए जा रहे थे। पांचों शातिर विभिन्न मामलों में पहले भी जेल जा चुके हैं।

इंचौली थाने में आयोजित प्रेसवार्ता में सीओ सदर देहात पूनम सिरोही ने बताया कि सरगना नेडू निवासी सुल्तान पुत्र मुनीराज व बिसौला निवासी पिंकल अपने साथियों के साथ मिलकर काफी समय से तमंचे व देसी बंदूक बनाने का अवैध धंधा कर रहे थे। सूचना के आधार पर एसओ श्योपाल सिंह ने दारोगा प्रवीन कुमार, इलम सिंह व भारी पुलिस बल के साथ टयूबवेल पर छापा मारकर तमंचा फैक्ट्री पकड़ी थी। यहां बने तमंचे और देसी बंदूकों को आरोपित रात के समय मेरठ समेत गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, हापुड़ आदि जनपदों में सप्लाई करते थे। मोनू नाम का युवक ग्राइंडर व वेल्ड कर हथियारों को मजबूती देता था। आरोपित मोनू अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा।

पकड़े गए ये शातिर

- सुल्तान निवासी ग्राम नेडू थाना फलावदा मेरठ ( सरगना)।

- पिकल निवासी ग्राम बिसौला थाना इंचौली मेरठ ।

- मौजीराम पुत्र रामलाल निवासी ग्राम बिसौला थाना इंचौली मेरठ ।

- रिकू पुत्र पप्पू जोगी निवासी ग्राम खिमावती थाना मुरादनगर जनपद गाजियाबाद ।

- मोहित उर्फ कालू पुत्र अतेश त्यागी निवासी ग्राम खिमावती थाना मुरादनगर जनपद गाजियाबाद ।

---

ये हथियार हुए बरामद

6 मस्कट बंदूक 315, भारी मात्रा में तमंचे, कारतूसों का जखीरा, खराद मशीन, ग्राइंडर मशीन समेत बनाने के उपकरण बरामद हुए।

Edited By: Jagran