मेरठ, जागरण संवाददाता। वर्तमान में जिले में बड़ी संख्‍या में लोग डेंगू अथवा अन्य दूसरी बीमारियों से पीड़ित हैं। गांवों में भी बढ़ता रावण रूपी डेंगू कहर ढा रहा है। इसके खात्मे के लिए खंड विकास क्षेत्र दौराला के अधिकारियों ने कमर कस ली है। ब्लाक क्षेत्र के 45 गांव पंचायतों के प्रधानों से अपील की गई है कि वह रावण रूपी डेंगू के खात्मे को वह अपने-अपने गांव में युद्ध स्तर पर सफाई अभियान चलाएं। गांव में कहीं भी पानी जमा न होने दें। जहां गड्ढे हैं, वहां मिट्टी-गिट्टी को भरकर प्लेन किया जाए। नालियों की सफाई कराई जाए, ताकि नालियों में रूके पानी के अंदर मच्छर पैदा न हो सकें।

ब्लाक क्षेत्र के सभी गांव प्रधानों को पत्र जारी

खण्ड विकास दौराला के बीडीओ डा. साजिद अहमद ने  बताया कि ब्लाक क्षेत्र के सभी गांव प्रधानों को पत्र जारी कर डेंगू की रोकथाम के लिए युद्ध स्तर पर कार्य करने की अपील की गई है। वर्तमान में सबसे अधिक ग्रामीण क्षेत्र के लोग और बच्चे डेंगू अथवा अन्य दूसरी बीमारी से पीड़ित हैं। गांव में डाक्टरों के क्लीनिक के अलावा नगर और शहरी क्षेत्र के डाक्टर और अस्पतालों में मरीजों की कतार लगी हुई है। हर रोज मरीजों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। समय रहते इसकी रोकथाम नहीं हुई तो निश्चित है कि यह विकराल रूप धारण कर लेगा। इसके लिए सभी 45 ग्राम पंचायतों के प्रधानों से अपील की गई है कि जिस तरह से बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए दशहरा पर्व मनाया जाता है, उसी तरह डेंगू का खात्मा कर उससे जीतने के लिए गांव में स्वच्छता अभियान युद्ध स्तर पर शुरू करना जरूरी है। ग्राम प्रधान इस अभियान में गांव के युवाओं को भी जोड़ सकते हैं। गांव में घर-घर पहुंचकर खासकर महिलाओं के साथ पुरुषों को जागरूक करने की जरूरत है। गांव में रिहायशी क्षेत्र के आसपास गोबर यानी कूड़ी न डालें, उससे भी मच्छर पैदा होता हैं।

बीडीओ ने प्रधानों से कहा है कि साफ-सफाई, फागिंग, एंटी लारवा का छिड़काव करें। गांव में सफाईकर्मी उपस्थित नहीं है तो चार मजदूर लगा कर गांव में विशेष सफाई चलवाएं। मंदिरों के आसपास चूने का छिड़काव और साफ सफाई कराई जाए।

 

Edited By: Taruna Tayal