मेरठ । जी हां। कभी अपाइंटमेंट के लिए महीनों इंतजार कराने वाले पासपोर्ट सेवा केंद्र पर आजकल जीरो वेटिंग है। यानी आवेदन फॉर्म भरने से लेकर पासपोर्ट मिलने तक महज एक महीना। कैंट स्थित पासपोर्ट सेवा केंद्र पर आजकल भीड़ नहीं है।

मेरठ में पासपोर्ट सेवा केंद्र फरवरी 2018 में शुरू किया गया था। सेवा केंद्र शुरू होने के महीनों तक इसमें कभी बिजली तो कभी सर्वर डाउन होने की समस्याएं आती रही। कई बार दूर से आए आवेदकों को बिजली या सर्वर ठप से होने हंगामा तक करना पड़ा था। नौबत पुलिस को बुलाने तक की आ जाती थी। सितंबर तक सेवा केंद्र में महज 50 अपाइंटमेंट ही होते थे, जिसे बढ़ाकर 80 कर दिया गया था।

दूसरे जिलों में सेवा केंद्र खुलने से कम हुई भीड़

पासपोर्ट सेवा केंद्र पर पहले मेरठ के साथ ही मुजफ्फरनगर, शामली, बागपत, सहारनपुर जिलों का भी भार था। जैसे-जैसे इन जनपदों में पासपोर्ट सेवा केंद्र खुले। मेरठ पासपोर्ट सेवा केंद्र का भार कम होता गया। आजकल केंद्र पर मेरठ के ही आवेदक आते हैं। महज तीन महीने पहले तक पासपोर्ट सेवा केंद्र पर पैर रखने की जगह तक नहीं होती थी, लेकिन आज बेंच खाली पड़ी रहती हैं।

मिला थ्री फेज कनेक्शन और ब्रॉडबैंड

कभी आलम यह था अगर पासपोर्ट सेवा केंद्र की बिजली गुल हो जाती तो आवेदकों को जेनरेटर में मजबूरन खुद हत्थी मारनी पड़ जाती थी। दो महीने पहले सेवा केंद्र को थ्री फेज कनेक्शन मिलने से बिजली की समस्या लगभग दूर हो गई। इसके साथ ही जेनरेटर का कनेक्शन भी डाकघर से दिया गया है। आए दिन ठप रहने वाला सर्वर भी अब निर्बाध है। मंगलवार को सेवा केंद्र पर अपाइंटमेंट पर आए शुभम ने बताया कि उन्होंने सोमवार को पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था। अगले ही दिन अपाइंटमेंट मिल गया।

अब शत-प्रतिशत होता है अपाइंटमेंट: नागर

पासपोर्ट सेवा केंद्र के अधिकारी अनुज नागर ने बताया कि आजकल शत-प्रतिशत अपाइंटमेंट होता है। जितने भी आवेदन भी होते हैं। सभी का अपाइंटमेंट शाम तक आसानी से हो जाता है। इसमें महिला और बुजुर्ग आवेदकों को वरीयता के आधार पर अपाइंटमेंट दिया जाता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप