मेरठ, जेएनएन : अधिवक्ता मुकेश शर्मा हत्याकांड को लेकर सोमवार को मेरठ और जिला बार एसोसिएशन की संयुक्त आम सभा बुलाकर विरोध दिवस मनाया गया। उसके बाद कचहरी से नारेबाजी करते हुए अधिवक्ता डीएम ऑफिस पहुंचे। जहां पर पीड़ित परिवार को 50 लाख की आर्थिक सहायता और एक सदस्य को नौकरी देने की मांग की। उसके बाद कप्तान ऑफिस पर नारेबाजी की गई। वहां पर परिवार के लोगों को सुरक्षा तथा मुकदमे की निष्पक्ष विवेचना कर फरार आरोपितों को गिरफ्तार करने की मांग की। डीएम और कप्तान के सीएम की वीडियो कांफ्रेंसिंग में होने की वजह से ऑफिस में मौजूद नहीं थे, जिसे लेकर अधिवक्ताओं ने नाराजगी जाहिर की।

दोनों बार की आम सभा पंडित नानकचंद सभागार में हुई। मेरठ बार के अध्यक्ष मांगेराम शर्मा और जिला बार के अध्यक्ष रविंद्र सिंह ने अध्यक्षता की। करीब दो घंटे चली आमसभा में चार प्रस्ताव पारित किये गये। पीड़ित परिवार को 50 लाख की आर्थिक सहायता, परिवार के एक सदस्य को नौकरी और परिवार को पर्याप्त सुरक्षा तथा फरार चल रहे हत्यारोपितों की जल्द गिरफ्तारी हो। चारों मांगों को लेकर अधिवक्ता पहले डीएम ऑफिस गए, वहां पर डीएम के नहीं मिलने पर हंगामा किया। एडीएम सिटी को बुलाकर ज्ञापन सौंपा गया। उसके बाद वहां से नारेबाजी करते हुए कप्तान ऑफिस पर पहुंचे।

कप्तान पर उस समय सीएम की वीडियो कांफ्रेंसिंग में थे। अधिवक्ताओं के कुछ देर इंतजार के बाद कप्तान पहुंचे। तभी अधिवक्ताओं ने अपनी मांगे रखी। उहोंने पीड़ित परिवार को सुरक्षा, हत्याकांड की निष्पक्ष जांच, दोषियों पर कार्रवाई और निर्दोषों को छोड़ने की बात कही। साथ ही फरार चल रहे नासिर और शूटर की गिरफ्तारी की मांग की। कप्तान ने सभी मांगों को स्वीकार करने हुए निष्पक्ष कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

अधिवक्ताओं ने कहा कि जल्द हत्यारों की गिरफ्तारी न होने पर केंद्रीय संघर्ष समिति की बैठक बुलाकर आंदोलन की घोषणा कर दी जाएगी। वक्ताओं में पूर्व अध्यक्ष डॉ. ओपी शर्मा, अजय त्यागी, अशोक शर्मा, राजेन्द्र सिंह जानी, सुधीर पंवार, जितेन्द्र बना, संजय शर्मा, अशोक पंडित, जगदीश पावटी, वीके शर्मा, सुनील राणा, सुनील मलिक, रामकुमार शर्मा, सरताज गाजी, अश्वनी शर्मा आदि मौजूद रहे।

मासिक बैठक में किया जाए शामिल

कप्तान के समक्ष अधिवक्ताओं ने प्रत्येक माह जिला जज के साथ मॉनिटरिग सेल की मासिक बैठक करने की मांग की, जिसमें जिला जज के साथ सीजेएम, जिलाधिकारी व एसएसपी तथा डीजीसी क्रिमिनल, वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी शामिल हो। बताया कि कुछ वर्षो से यह बैठक नहीं हो रही है। कप्तान ने भरोसा दिलाया कि पुलिस विभाग तैयार है। डीएम से भी बात करेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस