जागरण संवाददाता, मेरठ : एक बार फिर धनतेरस ने बाजार को सरपट दौड़ाया। बाजार की सुस्ती पूरी तरह से गायब हो गई, सुबह से लेकर शाम तक बाजार में ग्राहकों की भीड़ उमड़ी रही। आनलाइन बाजार के बढ़ते कदम ने भी लोगों के बाजार में जाकर खरीदारी करने के शौक को नहीं दबा पाया, धनतेरस पर जमकर बाजार में धनवर्षा हुई। ज्वैलरी, आटोमोबाइल, वर्तन, इलेक्ट्रानिक, गिफ्ट आइटम, रियल इस्टेट, सजावटी सामान, गारमेंट्स सहित बाजार के हर सेक्टर में रौनक दिखी, जिससे कारोबारियों के चेहरे पर मुस्कराहट रही। अनुमान के मुताबिक, शादियों के सीजन होने की वजह से धनतेरस पर 400 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार होने का अनुमान है। हालांकि कुछ सेक्टर में हुए कारोबार का अनुमान नहीं लग पाया।

बर्तन का बाजार जमकर झूमा

धनतेरस पर बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है। इसकी वजह से धनतेरस पर बर्तन की दुकानों पर चाहे वह सदर बाजार हो, लालकुर्ती हो, भगत मार्केट हो, शारदा रोड हो हर जगह पैर रखने की जगह नहीं दिखी। अनुमान के मुताबिक, देर रात तक 20 करोड़ से अधिक के बर्तन बिक गए। लालकुर्ती स्थित अग्रवाल बर्तन स्टोर के विक्रेता मनीष अग्रवाल ने बताया कि लोगों ने इस बार तार के बने बर्तन स्टैंड की भी खूब खरीदारी की। पीतल, स्टील के दीये के अलावा थाली, लोटा से लेकर चम्मच, गिलास यानी हरेक परिवार ने कोई न कोई बर्तन खरीदे।

सोने-चांदी के खूब बिके सिक्के

आबूलेन, सदर बाजार, शहर सर्राफा, भगत सिंह मार्केट, शास्त्रीनगर, लालकुर्ती, घटाघर, कंकरखेड़ा, गंगानगर आदि इलाकों में सराफा की दुकानों पर चादी-सोने के सिक्के तथा ज्वैलरी की खरीदारी के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। सबसे अधिक बिक्री सोने -चादी के सिक्कों की हुई। सोमवार को सोने का भाव 26 हजार 270 रुपये प्रति दस ग्राम रहा। पांच ग्राम सोने का सिक्का 14 हजार 135 रुपये और दस ग्राम सोने का सिक्का 27 हजार 270 रुपये का बिका। लोगों ने सोने चांदी के लक्ष्मी गणेश की मूर्ति की खरीदारी की। शादियों का सीजन होने की वजह से ज्वैलरी की भी खूब खरीदारी हुई। एक अनुमान के मुताबिक 50 से 80 करोड़ से अधिक का कारोबार सर्राफा का रहा। मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के महामंत्री सर्वेश सर्राफ ने बताया कि काफी दिनों बाद अच्छा कारोबार रहा। लोगों ने होलमार्क लगे सिक्के की खरीदारी की। हालांकि पिछले साल से 10 फीसदी बाजार हल्का रहा। फिर भी संतोषजनक स्थिति रही।

सैकड़ों नए वाहन दौड़ने का तैयार

कारों की डिलीवरी उम्मीद से अधिक हुई। शहर के सभी आटोमोबाइल शोरूम में भीड़ रही। जहां सबसे अधिक युवाओं की संख्या दिखी। जिले के सभी वाहनों के औसत कीमत के आधार पर करीब 70 करोड़ रुपये का आटोमोबाइल सेक्टर में कारोबार होने का अनुमान है। आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन के प्रेसीडेंट विवेक गर्ग के मुताबिक, देर रात तक लगभग 800 से अधिक चार पहिया वाहनों और दो हजार से अधिक बाइक की डिलीवरी हुई। कुछ लोग दिवाली के दिन वाहन लेने के लिए बुकिंग कराया है।

इलेक्ट्रॉनिक्स आइटमों में भी धूम

इलेक्ट्रॉनिक्स गुड्स की खरीदारी भी ठीक-ठाक रही। लैपटॉप के अलावा एलसीडी, वाशिग मशीन, फ्रिज की खूब डिमाड रही। शहर के बाजारों के अलावा मॉल में भी इलेक्ट्रानिक्स आइटमों की खरीदारी करने के लिए लोगों की भीड़ रही। इलेक्ट्रॉनिक्स आइटमों में करीब 20 करोड़ से 30 करोड़ रुपये से अधिक कारोबार होने का अनुमान है। उधर, मोबाइल का बाजार भी खूब गरम रहा, आनलाइन बाजार में मोबाइल के आने के बाद भी लोगों ने जमकर स्मार्टफोन की खरीदारी की।

बैंकों में भी खूब बिके सिक्के

धनतेरस पर बैंकों ने भी दिवाली मनाई। भारतीय स्टेट बैंक सहित अन्य कई बैंकों में सोने के सिक्के की बिक्री हुई। एसबीआइ कैंट ब्रांच में पिछले साल के रखे सोने के सिक्के की बिक्री हुई। सुबह से ही लोग सिक्के खरीदने के लिए बैंक पहुंचे। बैंक में दो ग्राम सोने के सिक्के की कीमत 5648 रुपये, दस ग्राम सोने के सिक्के की कीमत 27 हजार 663 रुपये, 100 ग्राम के सिक्के की कीमत दो लाख 73 हजार रुपये रही। इसके अलावा बैंक में एक फीसदी वैट भी रहा। सराफा बाजार से बैंक में सिक्का महंगा होने के बाद भी लोगों ने शुद्ध सोने की चाह में सिक्कों की खरीददारी की। बैंक के सहायक महाप्रबंधक सुशील कुमार ने बताया कि मंगलवार को भी बैंक खुलेगा, लोग सिक्के खरीद सकते हैं।

गिफ्ट व सजावटी सामान की खूब बिक्री

रंगीन लाइटों, सजावट के समान, बंदनवार आदि की भी खूब बिक्री हुई। लक्ष्मी गणेश की मूर्तियों के अलावा इनकी दुकानों पर खूब भीड़ रही। इसके अलावा पटाखों, रेडीमेड कपड़ों की भी खूब खरीदारी हुई। गारमेंट्स व गिफ्ट आइटमों की भी खूब बिक्री हुई।

पीतल के बर्तनों की भी खासी बिक्री

आमतौर पर लोग धनतेरस पर स्टील के बर्तन ही खरीदते हैं क्योंकि पीतल महंगी है। परंतु, पिछले दिनों के मुकाबले पीतल के भाव कम हो जाने के कारण धनतेरस पर पीतल के बर्तनों की भी खरीदारी हुई।

रियल इस्टेट भी चमका

काफी समय से सुस्त रियल इस्टेट भी सोमवार को चमका। लोगों ने बाजार की सुस्ती के बीच भी अपने लिए आशियाने की तलाश की। काफी लोगों ने अपने लिए घर की बुकिंग भी कराई। हालांकि पिछले साल की तुलना में यह सेक्टर मंदा रहा।

सोने में कम निवेशक आए

सराफा बाजार एसोसिएशन के महामंत्री दिनेश रस्तोगी का कहना है कि 20 फीसदी मार्केट तेज रहा। इस बार बाजार में भीड़ अधिक रही। निवेशक बाजार में कम आए। जिनके यहां शादी विवाह थी उन लोगों ने ज्वैलरी की खरीदारी की।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस