जागरण संवाददाता, बोझी (मऊ) : पिछले दस दिन से गेहूं बेचने के लिए भरी ट्राली लेकर विपणन गोदाम अमिला पर खड़े किसानों का सब्र का बांध मंगलवार को टूट गया और वे गोदाम पर प्रदर्शन किए। इसके बाद जमकर नारेबाजी करते हुए किसानों ने सरकार के प्रति आक्रोश जताया। इसके बाद तौल नहीं होने से ट्राली घर ले जाने को मजबूर हो गए।

विपणन गोदाम अमिला पर दो दर्जन से अधिक किसानों ने गेहूं से भरी ट्राली लेकर 10 दिन से लगातार डेरा डालकर गोदाम पर पड़े है। इसके बावजूद उनकी अब तक तौल नही हो पा रही है। मंगलवार को गेहूं खरीद का अंतिम दिन था। इससे नाराज किसानों ने सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। विभाग के प्रति भड़ास निकाली। किसान छोटू पांडेय, शिवचन्द यादव, रीशु राय, कमलेश राय, अशोक राय, संतोष पांडेय, रामनिवास, रामनाथ, हरिश्चंद, लालमुनि आदि ने बताया कि विपणन निरीक्षक से पूछने पर कहा गया कि उनका लक्ष्य 300 क्विंटल है। अब कोई नया आदेश मिलने पर किसानों को बुलाया जाएगा। विपणन निरीक्षक वरुण कुमार सिंह ने बताया कि गोदाम में जगह नहीं है। फिलहाल 300 क्विटल का लक्ष्य के बाद आदेश मिलने पर किसानों को बुलाकर तौल कराई जाएगी। इसलिए किसानों को धरना प्रदर्शन करने की जरूरत नहीं है।

कल्पनाथ के गांव में मुख्य मार्ग पर जलजमाव, आक्रोशित लोगों ने रोपा धान

जागरण संवाददाता, घोसी (मऊ) : कभी जिस गांव से निकलती विकास किरण समूचे जिले को आलोकित करती थी, उसी गांव के लोगों ने मंगलवार को मुख्य मार्ग पर जमे पानी में धान की रोपाई कर आक्रोश प्रकट किया। शहीद मार्ग से पूर्व केंद्रीय मंत्री कल्पनाथ राय के गांव सेमरी जमालपुर को जाने वाले मुख्य मार्ग पर बरसात के दिनों में पानी जमा हो जाता है। नालों के अनियोजित निर्माण एवं जल निकास की व्यवस्था खस्ताहाल होने के चलते पूर्व केंद्रीय मंत्री के प्रतिमा स्थल एवं घर तक पहुंचना दुरुह है। मंगलवार को आक्रोशित ग्रामीणों रमाशंकर राय, विश्वनाथ राय, कमला राजभर, अजय शंकर राय, रूपेश राय, रामानुज, चंद्रभान एवं राजन आदि ने प्रधान प्रतिनिधि विमलेश राय के नेतृत्व में उक्त मार्ग पर धान की प्रतीकात्मक रोपाई कर प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया।

Edited By: Jagran