जागरण संवाददाता, मधुबन (मऊ) : स्थानीय तहसील क्षेत्र के तिघरा में शनिवार को दिन में लगभग 11.30 बजे मित्रों के साथ मछली पकड़ने के लिए तालाब में उतरे दो युवकों की डूबने से मौत हो गई। जानकारी होते ही भीड़ जुट गई। परिजनों की चीत्कार से सबका कलेजा द्रवित हो जा रहा था। घटनास्थल पर पहुंचे उपजिलाधिकारी बाबूलाल दुबे ने हर संभव मदद का भरोसा दिया। वहीं पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 

क्षेत्र के तिघरा निवासी 25 वर्षीय अमित पुत्र मानिकचंद राजभर, 22 वर्षीय दीपांकर गोंड पुत्र गोपीचंद अपने मित्र बड़े शर्मा और आफताब अंसारी के साथ गांव के तालाब में मछली पकड़ने के लिए फंदा लगा रहे थे। इसी दौरान अमित गहराई में चला गया और डूबने लगा। अमित को डूबता देखकर दीपांकर उसको बचाने गया लेकिन सफल नहीं हो सका। दोनों की डूबने से मौत हो गई। आनन-फानन में दो अन्य लड़के तालाब से बाहर निकल कर शोर मचाए तो ग्रामीण एकत्रित होकर दोनों को बाहर निकाले। तब तक दोनों की मौत हो गई थी। जानकारी होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। अमित के पिता मानिकचंद और उसकी पत्नी शीला के साथ ही तीन बच्चे तथा दीपांकर के पिता गोपीचंद तथा उसकी पत्नी किरन और दो बच्चो के चीत्कार से हर किसी के आंख से बरबस आंसू निकल जा रहे थे।  सूचना पर पहुंचे एसडीएम ने घटना की जानकारी हासिल कर हर संभव मदद का भरोसा दिए।

-

अजन्मे बच्चे के सिर से उठा पिता का साया

क्षेत्र के तिघरा में तालाब में डूबकर मरे अमित की पत्नी शीला गर्भवती है। उसके तीन लड़के कृष्णा, आयुष, राज के बाद परिवार में बेटी के पैदा होने की परिवार आस लगाए हुए था लेकिन काल को शायद कुछ और ही मंजूर था। अमित अपने चौथे बच्चे को देख पाता, इसके पहले काल ने उसे ही छीन लिया। वहीं दीपांकर की दो बेटियां परी व प्रिया हैं। उसकी पत्नी  किरन रोते हुए उस घड़ी को कोस रही थी, जब उसका पति मछली पकड़ने के लिए घर से निकला। 

-

दोनों परिवारों की छिन गई रोटी

अमित और दीपांकर की मौत से दोनों के परिवार पर विपत्ति का पहाड़ टूट पड़ा है। दोनों युवक  निर्धनता की हालत में मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करते थे। इनकी मौत से दोनों परिवारों के सामने जीविकोपार्जन  की समस्या उत्पन्न हो गई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप