जागरण संवाददाता, मऊ : नवरात्र के नौ दिनों में देवी दुर्गा के नौ अवतारों में से एक मां सिद्धिदात्री की पूजा-उपासना के साथ गुरुवार को नवरात्र का समापन हुआ। मां के चरणों में नारियल, चुनरी समर्पित कर भक्तों ने उन्हें फिर आने का निमंत्रण देते हुए विदा किया। घर-घर में स्थापित कलश विसर्जित कर दिए गए। व्रती श्रद्धालुओं ने नौ दिनों से चले आ रहे व्रत का पारण किया। अधिकांश घरों में विधिवत कन्या पूजन कर उन्हें व्यंजन परोसे गये। घरों एवं मंदिरों के हवन-कुंडों से उठती यज्ञ देवता को समर्पित हवि की दिव्य सुगंध से सभी दिशाएं महक उठीं।

शारदीय नवरात्र की महानवमी पर श्रद्धालुओं ने मंदिरों व घरों में चल रहे दुर्गा सप्तशती पाठ, गायत्री जप आदि धार्मिक अनुष्ठानों को पूर्ण किया। घर-घर में कहीं स्वयं तो कहीं विद्वान ब्राह्मणों के आचार्यत्व में विधिवत हवन-पूजन किया गया। षोडशोपचार पूजन के बाद यज्ञ देवता को आहुति दी गई। भजन-कीर्तन और आरती के स्वर घंटा-घड़ियालों की मिश्रित आवाज में सुबह से शाम तक गूंजते रहे। दोपहर बाद वैदिक मंत्रों के साथ हवन पूजन और पूर्णाहुति हुई। कन्याओं का विधिवत पूजन कर उन्हें विविध प्रकार के भोग लगाए, चरण छुए और दक्षिणा दी। जगह-जगह मंदिरों में भंडारे का आयोजन कर श्रद्धालुओं में महाप्रसाद का वितरण किया गया।

हवन-पूजन के साथ संपन्न हुआ धार्मिक अनुष्ठान

जागरण संवाददाता, बोझी (मऊ) : मांदी-सिपाह स्थित मां कोयल मर्याद भवानी मंदिर पर शारदीय नवरात्र में चल रहा धार्मिक अनुष्ठान गुरुवार को हवन-पूजन के साथ संपन्न हुआ। इसके पूर्व दुर्गा स्वरूपा कुंवारी कन्याओं का पूजन-अर्चन, आरती, भोग लगाकर, दान-दक्षिणा दे आशीर्वाद मांग विदाई की गई। धार्मिक अनुष्ठान संपन्न होने पर मंदिर समिति ने आचार्यगण को सम्मानित किया। हवन कुंड में दर्जनों लोगों ने आहुति दी और मंगल कल्याण की कामना की। इस प्रकार मंदिर पर चला आ धार्मिक अनुष्ठान संपन्न हुआ। मां आदि शक्ति जगदंबे के जयकारे से वातावरण गुंजायमान रहा।

घरों में पूजी गईं शक्ति स्वरुपा कन्याएं

बोझी : मंदिरों के साथ ही घरों में भी व्रतियों ने कन्या पूजन कर आदि शक्ति जगदंबा से मनोकामना पूर्ण होने की कामना की। शक्ति स्वरूप कन्याओं का पैर पखारने के पश्चात विधिपूर्वक उनका श्रृंगार, भोग व आरती के बाद उनकी विदाई की गई।

दोहरीघाट : दुर्गा मंदिरों पर श्रद्धा के साथ वैदिक मंत्रों के साथ गुरुवार को आदिशक्ति का पूजन किया गया। भक्तों ने मां को प्रसन्न करने के लिए कन्या पूजन किया। इस दौरान कल्याणी भगवती मंदिर हेड कैनाल, जानकी घाट दुर्गा मंदिर और जानकी घाट दुर्गा मंदिर की छटा निराली रही। मां को प्रसन्न करने के लिए पुजारी सुरेश पांडेय एवं नंदू यादव ने मां को खप्पड़ चढ़ाया। अंतर्राष्ट्रीय मातेश्वरी महाधाम में भक्तों की कतार प्रात:काल ही लग गई। सभी ने मां को नारियल चुनरी चढ़ाया। महिलाओं ने धार अर्पित कर हलवा-पूरी अर्पित किया।

Edited By: Jagran