जागरण संवाददाता, मऊ : रूपनगर मोहाली (पंजाब) जेल में निरुद्ध माफिया विधायक मुख्तार अंसारी के विरुद्ध जनपद पुलिस ने कोर्ट से वारंट बी हासिल कर लिया है। यह वारंट विधायक द्वारा कूटरचित दस्तावेज तैयार कर शस्त्र लाइसेंस प्राप्त करने के मामले में पुलिस को मिला है। वारंट बी हासिल कर स्थानीय पुलिस अब उसे पंजाब से मऊ लाने के लिए होने वाली आवश्यक अग्रिम कार्रवाई में जुट गई है।

शासन-प्रशासन की नजर पर चढ़े माफिया विधायक के गिरोह व सहयोगी आपराधिक गिरोहों की आर्थिक कमर तोड़ने में जुटी पुलिस ने उसके विरुद्ध एक बड़ा कानूनी हथियार पा लिया है। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही आगरा जेल में निरुद्ध विधायक ने पंजाब के व्यवसायी को धमकी देने के मामले में जमानत तोड़वाकर अपना तबादला पंजाब की जेल में करा लिया। इन दिनों वह रूपनगर मोहाली की जेल में बंद हैं। लोगों का मानना है कि माफिया विधायक ने प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद अपनी सुरक्षा की ²ष्टि से इस कानूनी हथकंडे को अपनाते हुए पंजाब की जेल में जाना सुरक्षित समझा था। बहरहाल पुलिस ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर शस्त्र लाइसेंस बनवाने के मामले में विधायक के विरुद्ध वारंट बी हासिल कर लिया है। इससे अब उसे पंजाब की जेल से मऊ लाना संभव हो सकेगा। पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि इस मामले में थाना दक्षिणटोला में 05 जनवरी को धोखाधड़ी करने व शस्त्र अधिनियम के तहत 06 अभियुक्तों पर मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में आरोप है कि विधायक का पैड लगाकर शस्त्र लाइसेंस लिया गया था। इस मामले में पुलिस ने सीजेएम कोर्ट से वारंट बी हासिल कर लिया है। वारंट बी हासिल होते ही जनपद पुलिस पंजाब से विधायक को लाने की कार्यवाही में जुटी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस