संवाद सहयोगी, वृंदावन (मथुरा): ठा. बांकेबिहारी मंदिर में हालात दिनों दिन बिगड़ते नजर आ रहे हैं। रविवार को मंदिर के अंदर से लेकर बाहर तक तथा विद्यापीठ से लेकर मंदिर के रास्ता पूरी तरह से भक्तों की भीड़ से पटा नजर आया। प्रवेश द्वारों पर मंदिर में एंट्री पाने की जिद्दोजहद में जब श्रद्धालु भीड़ का दबाव सहन नहीं कर सके, तो बैरीकेडिग फांदने से भी नहीं चूके। हालात यही रहे तो मंदिर में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

ठा. बांकेबिहारी मंदिर में व्यवस्थाएं पूरी तरह ध्वस्त हो रही हैं। सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं की भारी भीड़ का दबाव न तो पुलिसकर्मियों पर ही संभल पा रहा है और न ही मंदिर में तैनात सुरक्षागार्डों पर। हर ओर भक्तों का हुजूम ही नजर आ रहा है। मंदिर के अंदर भीड़ के दबाव में भक्त बाहर निकलने को बेचैन नजर आ रहे थे, तो बाहर खड़े भक्त आगे बढ़कर अंदर जाने की जुगत कर रहे थे। प्रवेशद्वार संख्या तीन पर हालात रविवार सुबह उस समय बदतर होते नजर आए। आलम यह था कि श्रद्धालु बैरीकेडिग फांदकर प्रवेश कर रहे थे। इनमें पुरुषों के साथ महिला श्रद्धालु भी शामिल रहे। जबकि पुलिसकर्मी और सुरक्षागार्ड उन्हें ऐसा करने से रोकते नजर आए। लेकिन श्रद्धालुओं ने एक न सुनी और बैरीकेडिग फांदने का सिलसिला चलता रहा। जो कि कभी भी बड़ा खतरा साबित हो सकता है। गाय की सेवा करने से मिलता है सभी देवताओं का आशीर्वाद : सर्व ब्राह्मण राष्ट्रीय महासभा की वर्चुअल बैठक में गृह नक्षत्र और गाय पर प्रकाश डाला। बताया कि गाय की सेवा करने से सभी ग्रह और सभी देवताओं का आशीर्वाद मिलता है।

शुबेश शर्मा ने कहा कि गाय की सेवा करने से सभी देवताओं का आशीर्वाद मिलता है। रमेश सेमवाल ने ग्रहों की शांति पर बल दिया। अमित कुमार शर्मा ने सभी का परिचय कराया। रमेश भोजराज द्विवेदी, डीपी शास्त्री, अनुपम जौली, डा. वाई राखी, डा. नीति शर्मा, आलोक गुप्ता, नंद किशोर पुरोहित, आचार्य राम कुमार शर्मा, ब्रजमोहन मौजूद रहे।

Edited By: Jagran