संवाद सहयोगी, मथुरा : डेंगू के कहर के बीच निजी पैथोलाजी में जांच के नाम पर खुली लूट हो रही है। दैनिक जागरण ने रविवार को खबर प्रकाशित की तो स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की नींद टूटी। पैथोलाजी पर अफसर दौड़े। खबर छपने के बाद कुछ पैथोलाजी में जांच के रेट कम कर दिए गए, लेकिन कुछ में अभी भी खुली लूट हो रही है। असहाय अफसर दो-तीन दिन रेट घटने का इंतजार करेंगे, उसके बाद कार्रवाई पर विचार होगा। हालांकि जब तक अफसरों की कलम चलेगी, तब तक मरीज लुटते रहेंगे।

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा व डीएम नवनीत चहल से वार्ता के बाद सीएमओ डा. रचना गुप्ता ने डेंगू जांच के 500 रुपये व सीबीसी के लिए 150 रुपये लिए जाने के आदेश जारी किए थे। इसकी जानकारी आइएमए को भी दी गई। तीमारदारों की शिकायत पर शनिवार को दैनिक जागरण ने पड़ताल की थी। कृष्णा नगर, बैंक कालोनी, पुराना बस स्टैंड स्थित निजी पैथोलाजी पर डेंगू जांच के नाम पर 1000 रुपये और सीबीसी के 250 रुपये वसूले का रहे थे। रविवार के अंक में डेंगू की जांच के एक हजार रुपये वसूले जाने की खबर को जागरण ने प्रमुखता से प्रकाशित किया। सीएमओे ने संज्ञान लेते हुए कंट्रोल रूम प्रभारी डा. भूदेव व टीम को पैथोलाजी लैबों में जांच के लिए भेजा। टीम सबसे पहले पुराने बस स्टैंड स्थित एपेक्स डायग्नोस्टिक सेंटर पहुंची। यहां मरीज बनकर पूछने पर पाया कि स्टाफ ने डेंगू जांच के 1000 रुपये एवं सीबीसी के 250 रुपये बताए। फोटोग्राफी एवं वीडियो बनाई गई। इसके बाद टीम कृष्णानगर स्थित जगदीश पैथोलाजी, एसवी साइंटिफिक लैब, एसआरएल पैथोलाजी, मैट्रो पालिश सेंटर पहुंची। यहां कार्य संतोषजनक मिला। टीम हाईवे स्थित आइएमए उपाध्यक्ष डा.गौरव भारद्वाज के सिटी हास्पिटल भी गई, यहां पर्ची दिखाकर डेंगू एवं सीबीसी जांच के रेट पूछे गए। टीम को यहां तैनात स्टाफ द्वारा निर्धारित रेट बताए गए। कृष्णा नगर इलाके की कुछ अन्य पैथोलाजी संचालकों ने अब तक आदेश न आने का हवाला देते हुए रविवार को भी मरीजों से डेंगू जांच के 1000 रुपये ही वसूल किए। ये बात खुद नोडल अधिकारी ने स्वीकार की। अब स्वास्थ्य विभाग इन पैथोलाजी के रेट कम होने का दो से तीन दिन इंतजार करेगा। इसके बाद कार्रवाई के लिए रिपोर्ट सीएमओ को सौंपी जाएगी। -- वर्जन--

रविवार को लैबों का निरीक्षण किया गया, एक लैब द्वारा डेंगू जांच के रेट अधिक बताए गए। टीम आइएमए उपाध्यक्ष के हास्पिटल भी पहुंची जहां नियमानुसार कार्य होता मिला। जांच रिपोर्ट सोमवार को सीएमओ कार्यालय सौंपी जाएगी। जो पैथोलाजी अब भी मनमानी बंद नहीं करेंगी तो लाइसेंस निरस्तीकरण कार्रवाई भी अमल में लाई जा सकती है।

डा. भूदेव सिंह, कंट्रोल रूम प्रभारी, स्वास्थ्य विभाग

सीएमओ द्वारा डेंगू एवं सीबीसी जांच के रेट निर्धारित किए हैं। आइएमए सदस्य उसी के अनुसार कार्य कर रहे हैं। हो सकता है कि किसी के पास जानकारी न होने पर निर्धारित से अधिक रेट लिए गए हों। जांच रुटीन प्रक्रिया है।

डा.गौरव भारद्वाज, उपाध्यक्ष आइएमए

Edited By: Jagran