जेएनएन: मथुरा: स्टूडेंट्स वीजा पर भारत आए क्रोएशिया के युवक को एलआइयू ने हिरासत में लिया है। वीजा अविधि खत्म होने के बाद भी वह दो साल से यहां रह रहा था। पूछताछ में उसने बताया कि उसने अपना पासपोर्ट और वीजा यमुना में फेंक दिया। अब उसके कृष्ण ही सब कुछ हैं। उसकी दलील पुलिस ने गले नहीं उतरी। शुक्रवार को युवक को जेल भेज दिया गया। विदेश मंत्रालय को इसकी सूचना दे दी गई है।

गुरुवार रात्रि करीब साढ़े दस बजे परिक्रमा मार्ग स्थित जगन्नाथ मंदिर के पास विदेशी युवक घूमता मिला। एलआइयू यूनिट प्रभारी उमेश शास्त्री ने उससे पूछताछ की तो उसने अपना नाम जोरन जोलिक निवासी लानिस्टे जागरेब, क्रोएशिया, ईयू बताया। तलाशी के दौरान उसके कब्जे से तीन स्टील के बर्तन, छह धार्मिक पुस्तकें, एक कंबल, शेविग किट आदि सामान बरामद हुआ।

विदेशी युवक विद्यार्थी वीजा पर आया था। उसका पासपोर्ट नंबर 066174338 को 30 अप्रैल 12 को जारी किया गया था। इसकी अवधि 30 अप्रैल 22 तक थी पर उसका स्टूडेंट वीजा संख्या वीजे 9263450 की अवधि नौ मई 2018 थी। वीजा अवधि समाप्त होने के बावजूद युवक ने उसका रिन्यूवल नहीं कराया। युवक का कहना था कि किन्हीं कारणों से वह वीजा की वृद्धि नहीं करा पाया और उसने सारे कागजात यमुना में फेंक दिए हैं। पुलिस ने धारा 14 विदेशी अधिनियम 1946 के तहत मुकदमा दर्ज कर युवक को जेल भेज दिया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप