Move to Jagran APP

Mudiya Mela: मस्तक पर कस्तूरी तिलक और ठोड़ी पर लाल हीरा...मुड़िया पूर्णिमा पर स्वर्ण शृंगार धारण करेंगे गिरिराजजी

Mudiya Mela 2024 Govardhan Maharaj देश के कोने−कोने से पांच दिन के लिए लाखाें श्रद्धालु गोवर्धन में गिरिराजजी की परिक्रमा के लिए आते हैं। इस दिन गिरिराज महाराज खास शृंगार धारण कर भक्तों को दर्शन देंगे। गिरिराजजी को विशेष भोग भी लगाया जाएगा। दीपावली जन्माष्टमी और त्योहार के बाद मुड़िया पूर्णिमा पर प्रभु को विशेष वस्त्र धारण कराए जाते हैं।

By Jagran News Edited By: Abhishek Saxena Wed, 10 Jul 2024 11:40 AM (IST)
Mathura News: स्वर्ण शृंगार धारण करेंगे गिरिराजजी। फाइल फाटो।

संवाद सूत्र, जागरणl गोवर्धन। मुड़िया पूर्णिमा मेला ब्रजभूमि में श्रद्धा की अद्भुत तस्वीर सजाता है तो गिरिराज धाम की छटा भी अद्वितीय होती है। गिरिराजजी भी जवाहरात और स्वर्ण आभूषणों का शृंगार धारण करेंगे।

गोवर्धन में विश्व प्रसिद्ध मुड़िया मेला 17 से 21 जुलाई तक हो रहा है। इस दौरान दानघाटी मंदिर और मानसी गंगा के किनारे स्थापित गिरिराज प्रभु का मुकुट मुखारविंद मंदिर आस्था का मुख्य केंद्र रहेगा। सेवायतों ने आयोजन का खाका खींचकर पांच दिन अलग-अलग शृंगार की व्यवस्था की है।

श्रृंगार होगा दिव्य

मुकुट मुखारविंद मंदिर रिसीवर कपिल चतुर्वेदी ने बताया पांच दिवसीय मेला में इस बार प्रभु का दिव्य शृंगार किया जाएगा। प्रभु के मस्तक पर कस्तूरी तिलक और ठोड़ी पर लाल हीरा सुशोभित होगा। प्रभु की पोशाक माणिक मोती आदि से सुसज्जित होगी। सुबह की बेला में प्रभु का पंचामृत अभिषेक होगा तथा शाम की बेला में विभिन्न प्रजाति के सुगंधित पुष्प शृंगार का सौंदर्य बढ़ाएंगे। प्रभु को रजत पात्र में प्रसाद समर्पित किया जाएगा।

दानघाटी मंदिर सेवायत रामेश्वर पुरोहित ने बताया प्रभु का ये दिव्य शृंगार दीपावली, जन्माष्टमी, गोवर्धन पूजा जैसे विशेष अवसरों पर ही धारण कराया जाता है। प्रभु को रोजाना विभिन्न तरह का प्रसाद समर्पित किया जाएगा।

प्रशासन ने सुरक्षा के लिए जोन में बांटा शहर

जिला प्रशासन गोवर्धन का मुड़िया मेला की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर गंभीर है। पूरे मेला क्षेत्र को 21 जोन, 62 सेक्टर में बांटा गया है। पांच स्थायी और 37 अस्थाई पुलिस चौकी बनाई जाएंगी। सादा कपड़ों में भी पुलिस के जवान तैनात होंगे। हर क्षेत्र की गतिविधि की नजर सीसीटीवी कंट्रोल रूम से की जाएगी। पूरे मेला की व्यवस्था में 4000 हजार से अधिक अधिकारी-कर्मचारी लगाए जाएंगे।

ये भी पढ़ेंः बीसलपुर में बाढ़ हुई विकराल; देवहा नदी का पानी मुहल्लों में घुसने से हालात खराब, सीएम पूरनपुर का करेंगे दौरा

डीएम शैलेंद्र कुमार ने मेला क्षेत्र में कराए जा रहे विकास कार्यों की अंतिम समय सीमा तय करते हुए सभी की जिम्मेदारी तय कर दी है। मंगलवार शाम कलक्ट्रेट सभागार में डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह विभागीय अधिकारियों के साथ मुड़िया मेला की तैयारी को लेकर बैठक की।

गोवर्धन में मानसीगंगा के तट पर विराजमान मुकुट मुखारविंद गिरिराजजी का श्रृंगार करते रिसीवर कपिल चतुर्वेदी।

शाहजहांपुर में आफत बनी बाढ़; खन्नौत नदी खतरे के निशान से ऊपर, शहर की सड़कों पर आया पानी; कई मुहल्लों में जलभराव

मेले के लिए ये रहेगी व्यवस्था

डीएम ने कहा, मेला 15 जुलाई से 22 जुलाई तक रहेगा। इसके लिए मजिस्ट्रेट एवं प्रभारी पुलिस अधिकारी की तैनाती की गयी है। मेला क्षेत्र में 105 बैरियर, 70 पार्किंग स्थल, 31 वाच टावर, पांच स्थायी और 37 अस्थायी पुलिस चौकी, 52 मोबाइल, छह खोयापाया केंद्र, 12 फायर टेंडर टीम स्थापित की जाएंगी। सिविल पुलिस के अलावा तीन कंपनी पीएसी, एक कंपनी एसडीआरएफ फ्लड टीम रहेगी।

महत्वपूर्ण चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस एवं छह रिकवरी वैन भी मौजूद रहेंगी। संचार व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के एक रेडियो निरीक्षक, नौ रेडियों उप निरीक्षक, 14 प्रधान परिचालक, 39 सहायक परिचालक के साथ 200 हैंड हैल्ड सेट एवं 30 स्टेटिक मोबाइल सेट रहेंगे।

लोक निर्माण विभाग जल्द पूरा कराए कार्य

डीएम ने लोक निर्माण विभाग द्वारा कराए जाने वाले कार्यों के लिए समय सीमा का निर्धारण किया। गोवर्धन परिक्रमा मार्ग के कच्चे भाग पर लेवलिंग एवं मिट्टी भराव का कार्य किया जा रहा है। सभी मार्गों को गड्ढा मुक्त किया जाए। मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण और बिजली विभाग के कार्यों के लिए भी समय सीमा निर्धारित की गई है। बैठक में मुख्य रूप से एसएसपी शैलेश कुमार पांडे समेत सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।