जागरण संवाददाता, मथुरा: कोरोना वायरस पर नियंत्रण करने के लिए टीकाकरण का दूसरा चरण शुक्रवार को शुरू होगा। 2200 स्वास्थ्य कर्मियों को टीकाकरण के लिए बुलाया गया है। इसके लिए पंद्रह केंद्र बनाए गए हैं। सर्वाधिक टीकाकरण केडी मेडिकल कालेज और नयति हास्पिटल के कर्मचारियों का किया जाएगा। सभी केंद्रों पर सुरक्षा के बीच वैक्सीन पहुंचा दी गई है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. राजीव गुप्ता ने बताया कि पहले चरण में किए गए टीकाकरण के लिए 600 स्वास्थ्य कर्मियों को बुलाया गया था, लेकिन 512 का टीकाकरण हो सका था। दूसरे चरण में टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। इसमें 2200 स्वास्थ्य कर्मचारियों को बुलाया गया है। इसकी सूचना उनको पहुंचा दी गई है। टीकाकरण के स्वास्थ्य कर्मियों को पहुंचने का समय भी अलग-अलग दिया गया है। दूसरे चरण के टीकाकरण के लिए 15 केंद्र निर्धारित किए गए हैं। इन केंद्रों पर 22 सत्र होंगे। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सभी केंद्रों पर वैक्सीन भी उपलब्ध करा दी गई है। नोडल अधिकारी ने बताया, जिले को 16,520 डोज मुहैया कराई गई है, जिनमें से 15320 डोज स्वास्थ्य कर्मचारियों और 200 डोज सेना के लिए हैं।

ये निर्धारित किए गए केंद्र : जिला अस्पताल, केएम मेडिकल कालेज, सीएचसी गोवर्धन, सीएचसी चौमुहां, सीएचसी मांट, सीएचसी सौनाई, सीएचसी बलदेव, सीएचसी नौहझील, सीएचसी छाता, सीएचसी फरह, रिफाइनरी हास्पिटल मथुरा में एक-एक सत्र लगेगा। इसमें 100-100 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होगा। वृंदावन के रामकृष्ण मिशन हास्पिटल में दो सत्र के दौरान 200, नयति हास्पिटल में तीन सत्र में 300 और केडी मेडिकल कालेज में चार सत्र के दौरान 400 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होगा।

किशोर और गर्भवती को नहीं लगेगा टीका: चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के महानिदेशक राकेश दुबे ने कहा कि कोरोना वायरस को जड़ से खत्म करने के लिए किए जा रहे टीकाकरण में सावधानी बरतने की भी आवश्यकता है। 18 वर्ष से कम आयु वर्ग, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के टीका नहीं लगाया जाएगा। अगर, एलर्जी से ग्रस्त व्यक्ति को टीका नहीं लगाया जाएगा।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप