मथुरा, जागरण संवाददाता। रविवार को सीवर लाइन चैंबर के लिए जेसीबी द्वारा खोदाई के दौरान गोविद नगर में सेक्टर-एफ में अंडर ग्राउंड केबिल कट जाने से घरों की बिजली गुल हो गई। इससे गुस्साए लोगों ने जेसीबी को घेर लिया और ठेकेदार को बुलाने की मांग पर अड़ गए। लेकिन ठेकेदार नहीं आया। उमस और गर्मी से परेशान लोग शाम तक घरों के बाहर बैठकर हाथ का पंखा झलते रहे। लोगों ने बिजली विभाग के शिकायती नंबर 1912 पर शिकायत दर्ज कराई गई, बावजूद इसके बिजली विभाग का कोई अधिकारी और कर्मचारी शाम तक नहीं पहुंचा।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान से लगे गोविद नगर के सेक्टर-एफ में दो माह पहले सीवर डालने का काम पूरा हो चुका था, चैंबर का काम अधूरा रह गया था। रविवार को सुबह आठ बजे सीवर का चैंबर बनाने के लिए जेसीबी आई, तो लोगों ने जेसीबी चालक को बताया कि यहां बिजली की अंडर ग्राउंड केबिल पड़ी है, जेसीबी से बिजली की केबिल कट जाएगी, पर जेसीबी चालक ने ठेकेदार का हवाला देते हुए खोदाई का काम शुरू कर दिया। आखिर वही हुआ, जिस बात का यहां के लोगों का डर था। जेसीबी से केबिल कट जाने के कारण सेक्टर-एफ के सभी घरों की बिजली गुल हो गई। बिजली गुल होते ही गुस्साए लोगों ने घरों से बाहर निकल कर जेसीबी चालक को घेर लिया। सूचना पर 100 डायल पुलिस पहुंची और जेसीबी को थाने में ले जाकर खड़ा कर दिया, तब जाकर लोग शांत हुए।

इसी बीच लोगों ने लखनऊ बिजली विभाग के शिकायती नंबर 1912 पर अपनी शिकायत दर्ज कराई। यहां के रहने वाले जय प्रकाश शर्मा ने बताया कि लखनऊ और मसानी एसडीओ कार्यालय पर शिकायत और सूचना के बाद भी शाम साढ़े चार बजे तक बिजली विभाग का कोई कर्मचारी नहीं आया। करीब शाम साढ़े चार बजे ठेकेदार की लेबर द्वारा ही केबिल को ठीक करने की कोशिश शुरू की। गजब तो इस बात का है कि तीन बार 1912 नंबर से फोन कर पूछा गया कि समस्या का समाधान हुआ या नहीं। लोगों ने बिजली अधिकारियों की मनमानी पर भी गहरा आक्रोश व्यक्त किया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप