Move to Jagran APP

Ayushi Murder में प्रेमी से पूछताछ, 'आखिरी मैसेज था लव मैरिज की बात जान गए दादा-दादी', सूटकेस में मिली थी लाश

Ayushi Murder Case आयुषी के पिता ने दी थी प्रेमी छत्रपाल को दूर रहने की धमकी। आयुषी के प्रेमी छत्रपाल से पुलिस ने की पूछताछ-बोला दस वर्ष से आयुषी के संपर्क में था। घर में सभी शादी के लिए मान गए थे। लेकिन दादा और दादी नाराज थे।

By vineet Kumar MishraEdited By: Abhishek SaxenaPublished: Fri, 02 Dec 2022 08:17 AM (IST)Updated: Fri, 02 Dec 2022 08:44 AM (IST)
Ayushi Murder में प्रेमी से पूछताछ, 'आखिरी मैसेज था लव मैरिज की बात जान गए दादा-दादी', सूटकेस में मिली थी लाश
Ayushi Murder: आयुषी की हत्या मथुरा में हुई थी।

मथुरा, जागरण टीम। दिल्ली की बीसीए छात्र आयुषी हत्याकांड में गुरुवार को राया पुलिस ने उसके प्रेमी छत्रपाल को बुलाकर पूछताछ की। छत्रपाल ने बताया कि आयुषी से उसकी शादी के बारे में जानकारी के बाद उसके माता-पिता सहमत थे, लेकिन बाद में विरोध करने लगे। आयुषी के पिता ने उसे आयुषी से दूर रहने के लिए धमकाया भी था।

loksabha election banner

आर्यसमाज में शादी के बाद कराया रजिस्ट्रेशन

भरतपुर निवासी छत्रपाल एक डिग्री कालेज में बीए तृतीय वर्ष का छात्र है। गुरुवार को पुलिस को पूछताछ में उसने बताया कि उसका चचेरा भाई राजकुमार आयुषी के स्कूल में 2012 में पढ़ता था। उसी के जरिए छत्रपाल की 2012 में ही आयुषी से दोस्ती हुई। बाद में दोनों ने एक वर्ष पहले आर्यसमाज में शादी करने के बाद इसी वर्ष अक्टूबर में शादी का पंजीकरण लिया।

ये भी पढ़ें...

Ayushi Muder: विद्रोही तेवर से परेशान थे मां-बाप, सीने में मारी थीं दो गोलियां, सूटकेस के पास फूट-फूटकर रोए थे

छत्रपाल ने बताया कि पहले आयुषी के माता-पिता इस शादी से सहमत थे। कुछ माह पहले आयुषी के पिता नितेश यादव और माता ब्रजबाला छत्रपाल के भरतपुर स्थित घर पर गए। वहां एक रात रुके भी थे। शायद उन्हें छत्रपाल के परिवार का रहन-सहन समझ नहीं आया। वहां से लौटने के बाद उन्होंने रिश्ते पर असहमति जता दी। दो -तीन बार नितेश यादव ने फोन कर छत्रपाल को आयुषी से दूर रहने की धमकी भी दी थी।

दिल्ली से भरतपुर मिलने कई बार आई थी आयुषी

छत्रपाल ने बताया कि आयुषी कई बार भरतपुर आई और वह उससे मिलने कई बार दिल्ली आया था। आयुषी उसके साथ ही रहने की जिद करती थी, लेकिन वह चाहता था कि पहले नौकरी लग जाए। वह अपने पैरों पर खड़ा होने के बाद ही उसे अपने साथ रखना चाहता था। छत्रपाल के साथ उसका मित्र मानवेंद्र भी थाने पहुंचा। मानवेंद्र ही छत्रपाल और आयुषी की शादी में गवाह के रूप में है। पुलिस ने मानवेंद्र से भी पूछताछ की। दोनों से करीब दो घंटे तक पूछताछ की गई। इंस्पेक्टर राया ओमहरि वाजपेयी ने बताया कि छत्रपाल को जरूरत पड़ने पर दोबारा पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

आयुषी ने किया मैसेज, दादा-दादी को चल गया पता

छत्रपाल ने पुलिस को बताया कि 17 नवंबर को आयुषी की हत्या हुई है, उसी दिन अपराह्न आयुषी ने मैसेज किया था कि हमारी और तुम्हारी शादी के बारे में दादा-दादी को पता चल गया है । वह नाराज हैं। इसके बाद से उसकी कोई बात आयुषी से नहीं हुई है। 


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.