जासं, मैनपुरी: जिले में बुखार से बिगड़ रहे हालात अब डेंगू का रूप ले चुके हैं। लगभग दो दर्जन लोगों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है। चौबीस घंटे में वायरल और डेंगू से मासूम समेत तीन लोगों की मौत हो गई। शासन से भेजी गई दो विशेषज्ञों की टीम भी अपनी रिपोर्ट में बदतर हालातों को बयां कर चुकी है। ऐसे में अब प्रशासन भी हरकत में आ गया है।

बेकाबू होता बुखार ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। कई गांवों में बुखार के मरीज मिल चुके हैं। स्वास्थ्य टीमें भी यहां कैंप लगाकर मरीजों को उपचार देने में जुटी हुई हैं, लेकिन स्थिति फिलहाल संभलती नहीं दिख रही है। चौबीस घंटे के अंदर तीन लोगों ने बुखार से दम तोड़ दिया। भोगांव थाना क्षेत्र के गिहार कालोनी निवासी कशिश (सात) पुत्री संतोष गिहार दो दिनों से बुखार से बीमार चल रही थीं। रविवार को उसने दम तोड़ दिया। कुरावली क्षेत्र के मुहल्ला पठानान निवासी मुस्कान (16) पुत्री अब्दुल नवी भी कुछ दिनों से बीमार थीं। स्वजन आगरा के एक निजी अस्पताल में उपचार दिला रहे थे। रविवार को उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। स्वजन का कहना है कि जांच में किशोरी को डेंगू की पुष्टि हुई थी। कोतवाली थाना क्षेत्र के गांव ललूपुर निवासी वेद चैतन्य (78) भी कई दिनों से बुखार के चलते सैफई में भर्ती थे, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

मरीजों की सूचना मिलने के बाद जिला प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग की टीमें भी हरकत में आ गई हैं। गांवों में कैंप लगाकर मरीजों को उपचार दिलाने के अलावा अचानक स्वच्छता अभियान में भी तेजी शुरू कर दी गई है। महरमई पहुंची स्वास्थ्य टीम, डाला डेरा

बिछवां थाना क्षेत्र के गांव महरमई में बुखार से हुई तीन मौतों की सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया। रविवार को सीएमओ डा. पीपी सिंह, एसीएमओ डा. राजीव राय व अन्य स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ गांव पहुंचे। अधिकारियों ने ग्रामीणों से बात कर बुखार के हालातों की जानकारी जुटाई। थोड़ी ही देर में कैंप लगाकर मरीजों को वहां पर पहुंचने की अपील की। 110 मरीजों की जांच कराई गई, जिसमें किसी में भी डेंगू की पुष्टि नहीं हुई। सभी को मौके पर ही दवा वितरित कराई गई। प्रभारी जिला मलेरिया अधिकारी एसएन सिंह और स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी रवींद्र सिंह गौर ने घरों में जाकर लार्वा की स्थिति की पड़ताल की। इस मौके पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डा. जेपी वर्मा, डा. आरसी दुबे आदि उपस्थित थे। भाजपा जिलाध्यक्ष ने शासन से की चिकित्सकों की मांग

भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप चौहान ने बताया कि जिले में चिकित्सकों की कमी है। इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों और शासन से भी मांग की गई है। स्थिति को सामान्य रखने के लिए लोगों से भी सहयोग की अपील है। अपने घरों के आसपास गंदगी और पानी जमा न होने दें। समस्या होने पर जिला अस्पताल में जाकर ही जांच कराएं ताकि सही स्थिति का अंदाजा हो सके।

Edited By: Jagran