संसू, भोगांव: छात्रा दुष्कर्म व हत्याकांड का राज जानने में जुटी एसआइटी ने एक बार फिर स्कूल में जाकर तत्कालीन स्टाफ से सवालों की झड़ी लगा दी। हास्टल में छात्रा के व्यवहार व उसकी नजदीकी सहपाठियों के नाम जुटाने के बाद अब एसआइटी ने इन सभी से पूछताछ की तैयारी कर ली है। एसआइटी के सदस्यों ने हास्टल में जाकर एक बार फिर बारीकी से निरीक्षण किया।

भोगांव सरकारी स्कूल के हास्टल में छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या के मामले में हाईकोर्ट के निर्देश पर दोबारा गठित की गई एसआइटी के सदस्यों की जांच अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है। क्राइम सीन और जरूरी अभिलेखों का गहनता से निरीक्षण करने के बाद अब एसआइटी के रडार पर तत्कालीन स्कूल स्टाफ के सदस्य आ गए हैं। एसआइटी के सदस्यों ने शुक्रवार दोपहर स्कूल में दस्तक दी। तकरीबन एक घंटे तक विद्यालय की वार्डन से हास्टल की व्यवस्थाओं को लेकर सवाल किए। एसआइटी ने छात्रा को विभिन्न विषय पढ़ाने वाले शिक्षकों को पूछताछ के लिए बुलाया है। ज्यादातर शिक्षकों के स्थानांतरण होने के चलते उन्हें स्कूल पहुंचने को कहा गया है। आगामी दिनों में स्थानांतरित शिक्षकों के मैनपुरी आते ही उनसे सवाल किए जाएंगे। एक घंटे की पड़ताल के बाद एसआइटी ने जरूरी अभिलेख स्टाफ से मांगे। एसआइटी ने जांच को लेकर स्कूल स्टाफ फिलहाल मुंह खोलने से बच रहा है। आरोपित छात्र से शुरू हुई पूछताछ

छात्रा के साथ हुई घटना के बाद स्वजन की रिपोर्ट में नामित छात्र को सर्किट हाउस में बुलाकर पूछताछ का सिलसिला शुरू कर दिया गया है। एसआइटी के सदस्यों ने आरोपित छात्र से घटना से पहले स्कूल के माहौल को लेकर सवाल करना शुरू किया है। एसआइटी सूत्रों को स्कूल में घटना के दौरान बाहर से आने-जाने वाले कई लोगों के बारे में जानकारी मिली है। इन बातों की पुष्टि के लिए सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। खंगाली जा रही स्टाफ कर्मियों की काल डिटेल

जांच प्रक्रिया को आगे बढ़ा रही एसआइटी ने नवोदय स्टाफ की काल डिटेल खंगालने के लिए सर्विलांस सेल का सहारा लिया है। कानपुर मंडल के विभिन्न जिलों के सर्विलांस विशेषज्ञ पुलिस कर्मियों के अतिरिक्त मैनपुरी सर्विलांस टीम को इस काम में लगाया गया है। हाईकोर्ट की सख्ती के चलते एसआइटी जल्द इस जांच को पूरा करने के लिए सभी तंत्र का सहारा ले रही है। 18 अक्टूबर को होनी है सुनवाई

हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका में हुए आदेश के बाद सक्रिय हुई एसआइटी को अपनी जांच का पूरा ब्योरा 18 अक्टूबर को कोर्ट से साझा करना होगा। इस मामले में अगली सुनवाई 18 अक्टूबर को होनी है। सुनवाई से पहले एसआइटी को जांच प्रक्रिया में अहम तथ्यों को सामने लाने की जिम्मेदारी दी गई है।

Edited By: Jagran