औंछा, संसू। पोस्टमार्टम के बाद दोनों बहनों के शव गांव पड़रिया पहुंचे तो माहौल गमगीन हो गया। शाम को शवों का अंतिम संस्कार किया गया। घटना स्थल पर मौजूद लोग अपने आंसू नहीं रोक पाए।

औंछा क्षेत्र के गांव पड़रिया निवासी अभिलाख सिंह के पुत्र का बुधवार को अन्नप्रासन्न संस्कार था। गांव के तमाम लोग च्यवन ऋषि मंदिर पर गए थे। देर शाम वापस लौटते समय ट्रक की टक्कर से ट्रैक्टर ट्रॉली पलट गई। इसमें पड़रिया निवासी सुधीर की दो बेटियां दिव्या (17) व साक्षी (सात) और उनकी रिश्ते की भांजी भावना (7) पुत्री रजनेश निवासी गांव बीनपुर कला थाना अमांपुर कासगंज की मौत हो गई, जबकि दो दर्जन ग्रामीण घायल हो गए थे। घायल शकुंतला देवी और अतुल को सैफई रेफर कर दिया, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई हैं।

गुरुवार को पोस्टमार्टम के बाद दिव्या और साक्षी के शव गांव पहुंचे तो कोहराम मच गया। गांव के लोग पहले से शोक में डूबे हुए थे। दोनों बहनों के शवों को एक साथ दफनाया गया तो हर आंख नम हो गई। वहीं भावना के शव को परिजन पैतृक गांव बीनपुर कलां ले गए। रिपोर्ट अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ दर्ज कराई गई है। नहीं थम रहे थे बहनों के आंसू

सुधीर की चार बेटियों में से मृतक दिव्या दूसरे नंबर व साक्षी सबसे छोटी थी। सबसे बड़ी सोनम व तीसरे नंबर की बेटी दीक्षा है। सुधीर के कोई पुत्र नहीं हैं। वे दिल्ली में रहकर प्राइवेट नौकरी करते हैं। दो दिन पहले ही वे गांव आए थे। दिव्या व साक्षी की मौत से सोनम व दीक्षा के आंसू थम नहीं रहे थे। वहीं पिता सुधीर व मां अर्चना भी दहाड़े मारकर रो रही थी।

बेटों की तरह कर रहे थे परवरिश

सुधीर बेटियों की परवरिश बेटों की तरह करते हैं। शिक्षा पर पूरा ध्यान दे रहे थे। दिव्या ने इसी वर्ष इंटरमीडिएट की परीक्षा दी थी, जबकि साक्षी कक्षा दो में पढ़ रही थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस