संसू, भोगांव(मैनपुरी) : एक पखवाड़ा पहले हुई छाछा निवासी प्रमोद कुमार की हत्या पर पड़ा रहस्य का पर्दा हट गया है। प्रेम संबंधों में बाधक होने के चलते दो आरोपितों ने प्रमोद कुमार की हत्या कर शव को बंबा में फेंक दिया था। पुलिस ने घटना का राजफाश कर दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

सात जुलाई की रात प्रमोद कुमार खेत पर गए थे फिर लौटकर नहीं आए। अगले दिन उनका शव पुलिया के पास बंबा में पड़ा मिला। उनकी चाकुओं से गोदकर हत्या की गई थी। घटना की रिपोर्ट मृतक की पत्नी राजनश्री ने सतेंद्र सिंह निवासी जगतपुर के खिलाफ दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू की तो घटना में सतेंद्र के साथ रामविलास निवासी छाछा की संलिप्तता के साक्ष्य मिले।

सीओ भोगांव अमर बहादुर सिंह ने बताया कि सुबूतों के आधार पर शुक्रवार को सतेंद्र सिंह और रामविलास निवासी छाछा को हिरासत में लिया। पूछताछ में दोनों ने घटना को अंजाम देने की बात स्वीकार की। दोनों ने बताया कि उनके प्रेम संबंध मृतक के परिवार की एक किशोरी के साथ थे। मृतक प्रमोद कुमार इन संबंधों का विरोध करते थे। इसे लेकर कई बार दोनों का प्रमोद से विवाद हुआ था। प्रमोद ने दोनों को किशोरी से न मिलने की हिदायत दी थी। जिससे दोनों परेशान थे। प्रमोद से पीछा छुड़ाने के लिए दोनों ने हत्या की योजना तैयार की। घटना वाली रात प्रमोद खेत पर जा रहे थे तभी दोनों ने बातचीत के बहाने रोक लिया फिर सभी ने पुलिया पर बैठकर शराब की।

प्रमोद नशे में हो गए तो सतेंद्र और रामविलास ने चाकुओं से ताबड़तोड़ प्रहार कर हत्या कर दी और शव को बंबा में फेंक दिया। आरोपित सतेंद्र सिंह पैर से दिव्यांग है। वहीं दूसरा आरोपित रामविलास किशोरी से तीन गुनी उम्र का है। पकड़े गए दोनों आरोपितों के कब्जे से चाकू बरामद हुए हैं। दोनों को जेल भेज दिया गया है।

Edited By: Jagran