मैनपुरी, जासं। कई जिलों का निरीक्षण करने के बाद वापसी में मैनपुरी रुकीं एमडी डीवीवीएनएल सौम्या अग्रवाल ने आधा घंटा विकास कार्यों की समीक्षा की। मुख्य सड़कों पर खुले जंक्शन बॉक्सों पर नाराजगी जताते हुए इनसे बिजली चोरी की संभावना जताई। इसे लापरवाही बताते हुए अधीनस्थों को फटकार लगाते हुए बॉक्सों को बंद कराने के निर्देश दिए हैं।

शनिवार को दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड आगरा की प्रबंध निदेशक सौम्या अग्रवाल मंडल के जिलों का सर्वे करने के लिए निकली थीं। रात लगभग 9:30 बजे वे फर्रुखाबाद से लौटने पर मैनपुरी रुकीं। यहां अधीक्षण अभियंता रवि कुमार अग्रवाल के कक्ष में विभागीय अधिकारियों के साथ वार्ता की। लगभग आधा घंटा तक चली समीक्षा बैठक में उन्होंने मुख्य रास्तों पर सड़कों के किनारे खुले पडे़ जंक्शन बॉक्सों पर नाराजगी जताई।

उन्होंने कहा कि इन बॉक्सों को पूरी तरह से बंद होना चाहिए। जगह-जगह पर इनके ढक्कन टूटे पडे़ हैं। ऐसे में यह संभव है कि इनसे बिजली की चोरी की जाती होगी। यह लापरवाही है। इन जंक्शन बॉक्सों को तत्काल बंद कराया जाए। वसूली और पंजीकरण में बेहतर प्रगति पर पीठ भी थपथपाई। अधिशासी अभियंता मागेंद्र अग्रवाल, आशीष गुप्ता, जीसीएल भटनागर आदि मौजूद थे। 2014 में लगे थे बॉक्स:

वर्ष 2014 में शहर में भूमिगत लाइन बिछाने का काम शुरू हुआ था। लाइन बिछाने के बाद सप्लाई देने के लिए कनेक्शन बॉक्स स्थापित कराए गए थे। लेकिन, देखरेख के अभाव में इनमें से ज्यादातर बॉक्स के मेन कवर टूट चुके हैं। बॉक्सों की पहले भी मरम्मत हुई है। अब सभी अवर अभियंताओं के जरिए दोबारा सर्वे कराया जा रहा है। टूटे बॉक्सों की मरम्मत कराई जाएगी। उनमें लॉक लगवाए जाएंगे। जिनके घर या दुकान के पास ये लगे हैं। उन्हें जिम्मेदारी दी जाएगी। बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

मागेंद्र अग्रवाल, अधिशासी अभियंता।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस