जासं, मैनपुरी: बंदर और आवारा श्वान के शिकार मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जिम्मेदारों के स्तर से इस समस्या पर कोई संज्ञान नहीं लिया जा रहा है।

जिले में बंदर और श्वान के काटने के पीड़ित बढे़ हैं। जिला अस्पताल के इंजेक्शन कक्ष में रोजाना 50 से 70 मरीज इस समस्या से परेशान होकर आ रहे हैं। सबसे ज्यादा समस्या शहर में है। शहर के मुहल्ला गाड़ीवान, आवास विकास कॉलोनी, बंशीगौहरा, अस्पताल परिसर, गोला बाजार सहित दर्जनों कॉलोनियों में बंदरों और आवारा श्वान का आतंक है। स्थिति यह है कि ये आए दिन किसी न किसी राहगीर को काटकर घायल कर रहे हैं।

आवास विकास कॉलोनी निवासी दीपक चौहान का कहना है कि उनके बच्चे को दो बार श्वान ने हमला कर घायल कर दिया था। देवपुरा निवासी सुशीला का कहना है कि बंदरों का झुंड परेशान करता है। जिला अस्पताल में इन दिनों ऐसे मरीजों की भीड़ उमड़ रही है। डॉ. जेजे राम का कहना है कि ऐसे पीड़ित मरीजों को एआरवी का इंजेक्शन लगाया जा रहा है। चेयरमैन मनोरमा देवी का कहना है कि बंदरों और आवारा श्वान को पकड़वाने के लिए अबकी बोर्ड की मीटिग में प्रस्ताव रखा जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस