भोगांव, जागरण संवाददाता। 20 दिन पहले बस में पांच लाख रुपये के जेवर चोरी की घटना का राजफाश हो गया है। पुलिस ने चोरी गए जेवरों सहित दो चोरों को गिरफ्तार कर लिया है। बस स्टैंड पर लगे कैमरे घटना का राजफाश करने में सहायक साबित हुए हैं। जेवर बरामद होने पर पीड़ित विवाहिता ने राहत की सांस ली है।

कन्नौज के थाना छिबरामऊ क्षेत्र के गांव पालपुर निवासी संतोष कुमार की पुत्री प्रियंका की ससुराल भोगांव क्षेत्र के गांव रकरी में है। कुछ दिन पहले प्रियंका मायके गई थी। सात सितंबर को संतोष कुमार अपनी पुत्री को ससुराल छोड़ने कस्बा भोगांव तक बस से आए थे। भोगांव से रकरी तक टेंपो से जाना था।

प्रियंका के पास करीब पांच लाख रुपये के जेवर थे। रास्ते में चोरी न चले जाएं, इसलिए सुरक्षा के मद्देनजर संतोष कुमार ने बेटी के जेवर एक रूमाल में बांधकर अपने पेंट की जेब में रख लिए थे। भोगांव बस स्टैंड पर बस से उतरते समय जेबकतरों ने जेब से आभूषण पास कर दिए। शोर मचाने पर जेबकतरे गायब हो गए। अपर पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि घटना की रिपोर्ट थाना भोगांव में दर्ज कराई गई। राजफाश करने के लिए पुलिस ने बस स्टैंड पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो दो संदिग्ध नजर आए। पीड़ित प्रियंका व संतोष से दोनों की पहचान कराई तो बताया कि दोनों युवक बार-बार बस में उनके आसपास रगड़कर निकल रहे थे। पुलिस की जांच में पता चला कि दोनों युवकों के नाम नवाब सिंह गिहार और रवि गिहार निवासीगण गिहार कॉलोनी भोगांव है। पुलिस ने तलाश शुरू की तो दोनों गायब हो गए। गुरुवार सुबह पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। पूछताछ में दोनों ने जेवर चोरी की घटना को स्वीकार किया। चोरी गए पूरे जेवर भी पुलिस के हवाले कर दिए। बरामद जेवर की पहचान के लिए पुलिस ने प्रियंका को बुलाया, तो उसने देखते ही अपने जेवर पहचान लिए। जेबकटी के समय प्रियंका का रो-रोकर बुरा हाल था। उसे ससुराल में उत्पीड़न का डर सता रहा था। लेकिन पुलिस ने जेवर बरामद कर उसे दिखाए तो उसके चेहरे पर मुस्कुराहट आ गई। पकड़े गए जेबकतरों को जेल भेजा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस