जासं, मैनपुरी: मौसम में बदलाव से बीमारियां फैल रही है। न सिर्फ शहर बल्कि पूरा पूरा जिला बीमारियों की गिरफ्त में है। बुधवार को जिला अस्पताल की ओपीडी और इमरजेंसी में करीब 1300 मरीज आए। हर दिन मरीजों की बढ़ती संख्या से वार्ड फुल हो गए हैं। इस तरह के हालातों से अस्पताल के इंतजाम कम पड़ गए हैं। इसके चलते अनेक मरीजों को निजी चिकित्सकों की शरण लेनी पड़ रही है।

जुलाई का एक पखवाड़ा बीत चुका है, लेकिन लगातार बढ़ रही गर्मी और उमस इंसानी सेहत को बीमार कर रही है। बुधवार को जिला अस्पताल में बड़ी संख्या में मरीज पहुंचे। दोपहर एक बजे तक जिला अस्पताल की ओपीडी में लगभग 1300 नए मरीजों ने अपना पंजीकरण कराया। ज्यादातर मरीज बुखार, उल्टी और पेट दर्द के हैं। इसी तरह इमरजेंसी में भी दिनभर मरीजों की लाइन लगी रही। दोपहर दो बजे तक 52 मरीजों को उपचार दिया गया। गंभीर हालत में 13 मरीजों को भर्ती कराया गया। विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी और स्वास्थ्य सेवाओं की अनुपलब्धता के कारण ज्यादातर मरीज अपनी इच्छा से निजी अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। वहीं कुछ को बेहतर इलाज के लिए सैफई रेफर किया जा रहा है। फिजीशियन डॉ. जेजे राम का कहना है कि यह मौसम स्वास्थ्य के लिए प्रतिकूल है। मरीजों को भर्ती करने के लिए अतिरिक्त बिस्तर बढ़वाए गए हैं। बाहर की दवाएं लिखने पर पाबंदी है। आवश्यकता पड़ने पर मरीजों को जन औषधि केंद्र से जेनेरिक दवाएं लिखी जा रही हैं।

डॉ. आरके सागर, सीएमएस, जिला अस्पताल।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप