मैनपुरी, कुरावली: कस्बे के घिरोर रोड स्थित विश्व बैंक कॉलोनी में सोमवार को जैन मुनि तरुण सागर ने कहा कि सांसारिक वस्तुएं टेढ़ी हो सकती हैं, लेकिन संसार बनाने वाला टेढ़ा नहीं हो सकता। इंसान टेढ़ा है, लेकिन उसका मन टेढ़ा नहीं है। जीवन का गणित बहुत उल्टा है। जन्म को सुधारो, मृत्यु सुधरती है।

वे यहां कड़वे प्रवचन के दौरान श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे। मुनि श्री ने कहा कि मनुष्य वर्तमान सुधारे तो भविष्य सुधरता है। आज को सुधारे तो कल सुधरता है। संसारी और संन्यासी में इतना फर्क है कि गृहस्थ के पैर टिकते हैं,संन्यासी के पैर नहीं टिकते। गृहस्थ आज को तथा संन्यासी कल को सुधारता है। संन्यासी के पैर तीथरें में घूमते हैं, जिससे उसके पैरों में तीर्थो की धूल रहती है। मन को जीतना बहुत महत्वपूर्ण है। विश्वामित्र की साधना में दोष मेनका का नहीं, मन का था। जीवन में कुछ बनना चाहते हो, तो चार चीजों को त्यागना पड़ेगा, जिसमें पहली चीज ये है कि किसी काम को करने से पहले यह भावना मन से निकाल दो कि कोई क्या कहेगा? दूसरी बात यह कि मन में यह भावना कभी न आने दो कि यह मुझसे नहीं होगा? तीसरा भाग्य को कभी मत कोसों कि भाग्य खराब है? चौथा किसी भी काम को करने से पहले यह मत बोलो कि मन नहीं है? यदि मनुष्य का लक्ष्य पवित्र हो, इरादा नेक हो तो बिना पीछे देखे अपने लक्ष्य की ओर ही देखना चाहिए क्योंकि मनुष्य को यदि ऊंचाई को हासिल करना है, तो मन पर विजय पाना बहुत जरूरी है।

इससे पूर्व प्रवचन कार्यक्रम का शुभारंभ समाजसेवी आनंद स्वरूप अग्रवाल ने किया। इस अवसर पर नगर पंचायत चेयरमैन अभिलाख सिंह राठौर, कुंवर ललित प्रताप सिंह यादव,जैन समाज अध्यक्ष नरेंद्र जैन भुल्ले, महामंत्री प्रवीन कुमार जैन नाती, उदयभान जैन, ऋषभ जैन, सुरेन्द्र कुमार जैन, चौ. मुकेश चंद्र जैन, अरविन्द जैनसन, राजा जैन, विवेक जैन, अनुराग जैन, अखिल सोनू, रामलड़ैते गुप्ता, विजय वर्मा, ग्रीश बाबू गुप्ता, महावीर प्रसाद, वीवी पांडे, सुनील जैन, अभिषेक जैन, संजय वाष्र्णेय, बाबा हलवाई, डॉ. एसपी सिंह नीति आलोक, सुबोध जैन, विश्वप्रकाश जैन, सुधांशु जैन मौजूद रहे।

ये हुए कार्यक्रम

मंच पर आसीन मुनिराज क ा पाद प्रक्षालन संजयकांत जैन, चित्र अनावरण जीवनकांत जैन, दीप प्रज्जवलन नवीन जैन वैमर, शास्त्र भेंट सुदीप जैन बब्बन, गुरुपूजा कुलदीप जैन, आरती अजय जैन आशीष मार्केट ने तथा कड़वे प्रवचन पुस्तिका का विमोचन वीनेश जैन पटवारी दिल्ली ने किया।

धूमधाम से निकाली शोभायात्रा

मुनिराज तरुण सागर जी महाराज की शोभायात्रा जैन भवन जीटीरोड से पूजन-अर्चन के बाद शुरू हुई। मुनिराज का कस्बा में जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। शोभायात्रा जीटीरोड, घिरोर रोड होकर प्रवचन स्थल पर जाकर संपन्न हुई।

लगाए गए प्याऊ

प्रवचन स्थल के निकट मेडिकल एवं ड्रग एसोसिएशन के तत्वावधान में श्रद्धालुओं के लिए प्याऊ की व्यवस्था की गई। इसमें संजय वाष्र्णेय, पराग जैन, राजीव जैन, डॉ. देवेंद्र जैन, धीरेंद्र बाथम, भूरे का योगदान रहा।

आनंद यात्रा का आयोजन

रविवार देर शाम जीटीरोड स्थित जैन भवन में आयोजित आनंद यात्रा कार्यक्रम में मुनि श्री द्वारा श्रद्धालुओं को भक्तिमय आनंद की यात्रा कराई गई। इस मौके पर लोग ठहाके लगाने को मजबूर हो गए। आनंद यात्रा में जबलपुर से आई संगीता जैन ने गुरु भक्ति के सुंदर भजन सुनाए।