महोबा, जागरण संवाददाता। जहां एक तरफ डीएपी खाद की किल्लत से किसान परेशान हैं तो दूसरी तरफ इसका फायदा उठा कर जमाखोर नकली खाद किसानों को बिक्री करने में जुटे हैं। इसी तरह के एक मामले में लोडर से चोरी छिपे लाई जा रही 70 बोरी डीएपी खाद पकड़ी गई। चालक से कागजात मांगे गए तो ‍वह कागज नहीं दिखा सका। जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि खाद किस पदार्थ से बनी है इसकी जांच के लिए उसका नमूना लैब में जांच के लिए भेजा गया है। वाहन चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

सूचना मिली की खाद नकली है

जिला कृषि अधिकारी को किसी ने सूचना दी कि एक लोडर में चोरी से खाद लाई जा रही है। यह खाद नकली है। इस पर जिला कृषि अधिकारी बीपी सिंह कबरई पुलिस टीम के साथ वाहनों की चेकिंग करने लगे। दोपहर बाद कबरई के बांदा चौराहे के पास बांदा की ओर से एक लोडर आता दिखा। उसमें काला तिरपाल लगा हुआ था। खोलने पर लोडर में सफेद बोरियों में खाद भरी मिली। वाहन चालक संदीप झा ने बताया कि वह अकठौंहा कोतवाली चरखारी क्षेत्र का रहने वाला है। यह माल वह बांदा से लाकर बेलाताल थाना क्षेत्र के खंदिया निवासी कामता रैकवार और घुसियाना निवासी सुनील यादव के यहां ले जा रहा है। बांदा में माल उसे कहां से मिला यह जानकारी वह नहीं दे सका।

जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि इस मामले में पूछताछ के दौरान पता चला कि यह लोग इफको की खाली बोरी कानपुर से लाते हैं। उसमें नकली खाद भर कर उसे बिक्री करते हैं, मामले में चालक, वाहन मालिक सहित चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट