महोबा, जागरण संवाददाता। कानपुर-सागर हाईवे पर उप जिला कारागार के पास मंगलवार की दोपहर ओवरटेक करके आगे कार लगाने के बाद बाइक सवार दो भाइयों को गिराकर कुछ लोगों ने कुल्हाड़ी, डंडा-बैट से पिटाई शुरू कर दी और एक के पैर में तमंचे से गोली मारने के बाद फरार हो गए। दोनों घायल भाई साई कालेज में बीए द्वितीय वर्ष के छात्र हैं और परीक्षा देकर घर लौट रहे थे। राहगीरों ने घायलों को महोबा जिला अस्पताल पहुंचाया और जानकारी पर पुलिस ने घटना की छानबीन शुरू की है। 

महोबा के मोहल्ला सुभाष नगर निवासी 20 वर्षीय सचिन और उनका छोटा भाई 18 वर्षीय अरुण कुमार साई कालेज में बीए द्वितीय वर्ष के छात्र हैं। मंगलवार करीब 11 बजे दोनों भाई स्कूल से इंग्लिश का पेपर देकर बाइक से घर आ रहे थे। दोनों उप जिला उपकारागार के पास कानपुर सागर हाईवे पर पहुंचे ही थे कि पीछे से आई कार ने उनकी बाइक को ओवर टेक कर रोक लिया।

कार से तीन युवक उतरे और दोनों भाइयों को कुल्हाड़ी, हाकी, बैट से पीटना शुरू कर दिया। एक युवक ने तमंचा निकाला और अरुण पर फायर कर दिया। गोली अरुण के पैर के पंजे में लगी और वह वहीं गिर गया। गोली की आवाज सुन आसपास के लोग और राहगीर दौड़ पड़े तो आरोपित भाग निकले। अरुण ने बताया कि वह दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था।

उसने बताया कि दो माह पहले उसी के मोहल्ले का उसका दोस्त देवा शर्मा अपने दोस्तों के साथ दिल्ली पहुंचा और उसके कमरे में रुक गया। अरुण अपने काम पर चला जाता था और देवा अपने दोस्तों के साथ कमरे में शराब पीता रहता था। तीन चार दिनों बाद अरुण ने उसे भगा दिया और तब वह रंजिश मान बैठा।

आरोप है कि उसने ही अपने साथियों के साथ दोनों भाइयों पर हमला किया है। कार में मध्य प्रदेश का नंबर था। अरुण की मां कमलेश रानी ने बताया कि देवा ही उसके बेटों को दिल्ली लेकर गया था। बाद में वह लौट आया था और उनके बीच में क्या विवाद हुआ जानकारी नहीं है। अरुण के पिता ग्राम सलुआ में शिक्षामित्र के पद पर तैनात हैं। कोतवाली प्रभारी बलराम सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट