जागरण संवाददाता, महोबा: 24 घंटे के अंदर 24 बच्चे महोबा अस्पताल में भर्ती हुए। इसमें छह में निमोनिया के लक्षण मिले। अन्य में उल्टी-दस्त व वायरल बुखार के हैं। मंगलवार को करीब 800 मरीजों का पंजीयन किया गया और 2485 जांचें की गईं। वहीं बीमारी के चलते एक बच्चे समेत दो की मौत हो गई। करीब 31 दिनों में तीस लोगों की बीमार के चलते मौत हो चुकी है। जिले में अब तक सात डेंगू के मरीज मिल चुके हैं।

बारिश के बाद निकल रही तेज धूप से बीमारियों को बढ़ावा मिला है। जिला अस्पताल और प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की भीड़ है। जिला अस्पताल में उपचार कराने 800 नए मरीज पहुंचे और करीब 200 पहले के मरीज पहुंचे। यहां पर 111 मरीजों के 199 सैंपल लिए गए। और 2485 जांचें की गईं। जिला अस्पताल में मरीजों की भीड़ का आलम यह है कि दो से तीन घंटे में मरीज का नंबर आ रहा था। वार्ड भी मरीजों से भरे हैं। निमोनिया, बुखार, उल्टी दस्त आदि के 65 बच्चे जिला अस्पताल में भर्ती हैं और उनका उपचार किया जा रहा है। ओपीडी बंद होने के बाद भी इमरजेंसी में बुखार, पेट दर्द, उल्टी दस्त आदि के मरीज दर्जनों मरीज उपचार कराने पहुंच रहे हैं। गंभीर मरीजों को वार्डों में भर्ती किया जा रहा है। सीएमएस डा. आरपी मिश्रा ने बताया कि 24 घंटे में 22 बच्चे भर्ती किए गए हैं। जिसमें छह निमोनिया, छह बुखार और 10 बच्चे उल्टी दस्त व अन्य बीमारियों से ग्रसित हैं। ग्राम बबेड़ी कबरई निवासी तीन वर्षीय छोटू पुत्र मुलुआ को दौरे पड़ने के कारण स्वजन उसे जिला अस्पताल लाए थे। जहां पर बच्चे की उपचार दौरान मौत हो गई। इसी तरह ग्राम मझलवारा निवासी 60 वर्षीय नंदी को बीमारी के चलते जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां पर उपचार दौरान मौत हो गई। सीएमएस ने कहा कि वर्तमान में मौसम के बदलाव से मरीज बढ़े हैं। बारिश के बाद तेज धूप निकलने से एलर्जी, संक्रमण, डायरिया आदि बीमारी फैल रही हैं। ताजा खाना खाएं, बाहर के खाने से बचें, खाना खाने से पहले साबुन से हाथ धुलें, शुद्ध पानी पिएं, छोटे बच्चों को साफ सुथरा रखें।

Edited By: Jagran