महराजगंज: पुलिस टीम पर फायरिग कर भाग रहे दो लुटेरों को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों लूट की कई घटनाओं में वांछित चल रहे थे। पकड़े गए दोनों आरोपित रामू खरबार व दिलीप कुशवाहा ने 30 जुलाई को थाना क्षेत्र के बारीगांव बैंक से रुपये निकालकर आ रहे बुजुर्ग को झांसे में लेकर 30 हजार रुपये लूट लिया था। दोनों गिरफ्तार आरोपितों को पुलिस ने न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता कर मामले का पर्दाफाश किया।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 30 जुलाई को घुघली थाना क्षेत्र के मेदनीपुर निवासी मूरत साहनी बारीगांव में बैंक से रुपये निकालने गए हुए थे। वहां बैंक में उन्होंने 30 हजार रुपये निकालने के लिए फार्म भरा और रुपयों की निकासी की। फार्म पर मोबाइल नंबर लिखता देख पहले से बैंक में मौजूद कुशीनगर जनपद के कसया अंध्या बाजारी टोला निवासी आरोपित रामू और दिलीप कुशवाहा ने नंबर नोट कर लिया। रुपये निकालकर जब बुजुर्ग घर जाने लगा तब यह उसके पीछे लग गए। कुछ देर बाद बुजुर्ग के नंबर पर फोन मिलाकर खुद को बैंक शाखा प्रबंधक बताते हुए कहा कि आपने 30 हजार की जगह 50 हजार रुपये बैंक से ले लिए हैं। ऐसे में आप जहां हैं वहीं रुक जाइए, अभी बैंक से दो कर्मचारी आपके पास पहुंच रहे हैं। उन्हें शेष धनराशि वापस कर दीजिएगा। बुजुर्ग के रुकते ही दोनों आरोपित पहुंचे और उनसे रुपये लूटकर फरार हो गए थे।

पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने कहा कि गिरफ्तार दोनों आरोपित लंबे समय से लूट की घटनाओं में संलिप्त थे। इनके खिलाफ लूट के अलावा पुलिस पर हमला और आ‌र्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर दोनों को न्यायालय चालान किया गया है। जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया है।

बैंक के सीसीटीवी फुटेज में भी दिखे थे संदिग्ध

पीड़ित के मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस ने बैंक में पहुंचकर सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से घटना के दिन बैंक में उपस्थित सभी लोगों की निगरानी की थी। इस सीसीटीवी फुटेज में भी दोनों आरोपित दिखाई पड़े थे। पीड़ित से पहचान कराए जाने के बाद से पुलिस इनको खोज रही थी। सर्विलांस सेल की मदद से मिला सुराग

आरोपितों की पहचान के बाद पुलिस उनके नंबरों को सर्विलांस पर लगाकर उनको खोज रही थी। इसी बीच शुक्रवार की रात इनका लोकेशन थाना क्षेत्र में मिली थी। इस पर घुघली थानाध्यक्ष अशोक कुमार के साथ स्वाट टीम के प्रभारी शशांक शेखर राय, मुख्य आरक्षी हेमंत शुक्ला व विनोद राव की टीम ने इन्हें फालो किया और मंगलपुर पटखौली-बसंतपुर मार्ग पर रोकने के प्रयास में आरोपित पुलिस पर फायरिग कर भागने का प्रयास करने लगे। पहली फायरिग के बाद आरोपित कट्टा दोबारा लोड कर पाते उससे पहले ही पुलिस ने दोनों को दबोच लिया। इनके पास से बाइक, दो मोबाइल फोन, 10 हजार 500 रुपये नकद व देसी तमंचा की बरामदगी की गई है।

Edited By: Jagran