महराजगंज: बृजमनगंज कस्बे में सोमवार को स्वर्ण व्यवसायी आलोक वर्मा की दुकान पर लूट के प्रयास मामले में गिरफ्तार महाराष्ट्र के जिला पुणे थाना लोनी वोरपटारे निवासी आरोपित मोहम्मद जाफरी को पुलिस ने जेल भेज दिया है। वहीं मध्यप्रदेश भोपाल के करोंद निवासी दूसरे फरार आरोपित मिसम की गिरफ्तारी में पुलिस जुटी हुई है।

पुलिस के अनुसार यह दोनों आरोपित कई जनपदों में घूमकर टप्पेबाजी और लूट की घटनाओं को अंजाम देने का कार्य करते थे। बृजमनगंज पुलिस के साथ साइबर सेल व स्वाट टीम भी दूसरे आरोपित की तलाश में जुट गई है। बृजमनगंज के थानेदार कमलेश कुमार सिंह ने बताया कि सोमवार को बृजमनगंज कस्बे में आलोक वर्मा के ज्वेलरी की दुकान पर मोहम्मद जाफरी अपने साथी मिसम के साथ पहुंचा और दुकान से जेवरात लेकर भागने की कोशिश करने लगा। शोर मचाने पर पहुंचे लोगों ने बाइक पर पीछे बैठे मोहम्मद जाफरी को तो पकड़ लिया लेकिन आरोपित मिसम भाग निकला। आरोपित जाफरी के खिलाफ लूट के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर मंगलवार को न्यायालय चालान किया गया , जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। आरोपित के पास से सोने के दो कंगन, एक चेन व नकद रुपये बरामद हुए हैं। भारतीय दूतावास के सामने किया प्रदर्शन

महराजगंज: नेपाल के दार्चुला सीमा पर भारतीय एसएसबी जवानों पर रोप-वे ब्रिज को काट कर नेपाली नागरिक को नदी में गिराने व उसकी हत्या का आरोप लोगों ने लगाया है। मंगलवार को नेपाल की राजधानी काठमांडू स्थिति भारतीय दूतावास के समक्ष एमाले क्रांतिकारी संगठन के अध्यक्ष हरीशचंद गजुरैल व माधव पक्ष नेपाल के युवा संगठन के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया और भारत विरोधी नारे लगाए। वहीं इस मामले ने नेपाल गृह मंत्रालय ने एक जांच टीम गठित कर दार्चुला सीमा पर भेज दिया है।

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि सरहद निर्धारित करने वाली काली नदी पर वर्षो से एक रोप-वे ब्रिज है। जिस से लोगों का आवागमन होता है। शुक्रवार को एसएसबी जवानों ने वह पुल काट दिया गया। जिससे पुल से अपने घर जा रहे जय सिंह धामी पुल समेत नदी की तेज जलधारा में जा गिरा और डूब गया। नेपाल गृह मंत्रालय के सह सचिव व प्रवक्ता खुमकांत आचार्य का कहना है कि दार्चुला बार्डर पर रोप वे ब्रिज टूटने व नेपाली नागरिक के डूब जाने मामले में जांच टीम भेजी गई है। एसएसबी पर लगे आरोपों के संबंध में भारतीय दूतावास से रिपोर्ट मांगी गई है।

Edited By: Jagran