महराजगंज: सोनौली कोतवाली क्षेत्र के श्यामकाट गांव के उत्तर दिशा में रोहिन नदी से व्यापक पैमाने पर बालू खनन किया जा रहा है। यहां खेत से बलुई मिट्टी निकालने की अनुमति की आड़ में रोहिन नदी की कोख उजाड़ी जा रही है। जिससे रोहिन नदी बरसात में आफत बनने को तैयार हो रही है। यहां से प्रतिदिन सैकड़ों ट्राली बालू निकाल कर आसपास के बाजारों से लगाए कोल्हुई तक के बाजारों में बेचा जा रहा हैं। सोनौली कोतवाली थाना क्षेत्र के श्यामकाट के पास से निकलने वाली रोहिन नहीं से बालू के खनन का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। गांव के पास से निकाली गई बालू को सोनौली व आसपास के बाजारों में 3500 से 4500 रुपया प्रति ट्राली बेचा जा रहा है। अभी हाल ही में एसएसबी ने खनन स्थल पर छ़ापेमारी कर पूछताछ किया, तो खनन करने वालों ने एसएसबी को एक राजस्व अनुमति प्रपत्र दिखाया था। ग्रामीण रामकेवल, कमलावती, महेश पासवान, अनिल यादव व सूरजभान गौतम ने बताया कि बालू के अवैध खनन से नदी के तटबंध ध्वस्त होकर नदी के पेट में समा जा रहे हैं, जिससे बरसात के दिनों में गांव में बाढ़ का पानी घुसने का खतरा उत्पन्न हो गया है। रोहिन नदी में श्यामकाट गांव के पास हो रहे खनन के बारे पूछने पर एसडीएम प्रेम प्रकाश अंजोर ने कहा कि मामला संज्ञान में नहीं है। मामले की जांच की जाएगी।

By Jagran