महराजगंज: घुघली क्षेत्र के पिपरिया करंजहा गांव में आयोजित धनुष यज्ञ मेले में शनिवार की रात सीता विवाह का सजीव मंचन कर श्रद्धालुओं को भाव विभोर कर दिया। विविध प्रसंगों को विस्तार देते हुए चौपाई व गीतों के बीच प्रस्तुत मंचन को सभी ने सराहा। मंचन का शुभारंभ जनकपुर के राज दरबार के दृश्य से होता है।

देश के सभी भूपति राजा सीता स्वयंवर में भाग लेने के लिए पधार चुके हैं। स्वयंवर का कार्यक्रम सजाया जा रहा है। इसी बीच गुरु वशिष्ठ के साथ दशरथ नंदन राम और लक्ष्मण भी वहां पहुंचते हैं। रात्रि विश्राम के बाद प्रात: काल राजकुमार राम जनकपुरी का दर्शन करने बाग की ओर टहलने जाते हैं। जनक नंदनी सीता भी फुलवारी में सखियों संग फूल तोड़ने पहुंचती हैं। यहां राम और सीता का आमना-सामना होता है। दोनों एक दूसरे का रूप सौंदर्य देख खो जाते हैं। मन ही मन दोनों एक दूसरे को पाने की प्रार्थना ईश्वर से करते हैं। इधर स्वयंवर का कार्यक्रम शुरू होता है। पर्यावरण अंबेसडर दिनेश कुमार गिरी उर्फ पेड़ बाबा, पूर्व प्रधान चंद्रभान सिंह पटेल, प्रदीप कुमार मिश्र, संदीप कुमार मिश्र, राम विनोद गिरी, सिंहासन, मनोज कुमार, अनुज कुमार, दशरथ, दिवाकर, सुरेश, विजय कुमार, रंजन पांडेय आदि लोग उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस