महराजगंज : पोषण अभियान अंतर्गत डिस्ट्रीक्ट रिसोर्स ग्रुप द्वारा इन्क्रीमेंटल लर्निंग अप्रोच के तहत सदर ब्लाक सभागार में स्तनपान संबंधी समस्याओं को लेकर प्रशिक्षण दिया गया। आशाओं को इसके लिए माताओं को जागरूक करने पर जोर दिया गया।

जिला कार्यक्रम अधिकारी शैलेंद्र कुमार राय ने कहा कि आशा माताओं को बच्चों को स्तनपान कराने के लिए जागरूक करें। जन्म के एक घंटे के अंदर माताएं अपने बच्चों को स्तनपान अवश्य कराएं।

डा. सीएमपी ने कहा कि कभी-कभी तय समय से पहले ही कुछ शिशु का जन्म हो जाता है। इस वजह से उनका वजन बहुत कम होता है और स्वास्थ्य की समस्या होती है। ऐसे समय में बच्चों की देखभाल करने के लिए उन्हें केएमएसी दिया जाता है, मतलब कंगारू की तरह मां द्वारा शिशु को अपने स्कीन से लगाकर रखा जाता है, जो बच्चों को जीवनदान देने में सहायक होता है। विजय पाठक ने कहा कि शिशु के लिए मां का दूध सर्वोत्तम आहार के साथ ही उसका मौलिक अधिकार भी है। मां का दूध जहां शिशु को शारीरिक व मानसिक विकास प्रदान करता है, वहीं उसे डायरिया, निमोनिया और कुपोषण जैसी जानलेवा बीमारी से बचाता है। जन्म के एक घंटे के भीतर नवजात को स्तनपान शुरू कराने से 20 फीसदी शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सकती है।

इस अवसर पर सीडीपीओ बृजेंद्र जायसवाल, विजय चौधरी, नीरजा गुप्ता, अनीता यादव, स्वस्थ भारत प्रेरक आसिफ खान आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस