महराजगंज: माध्यमिक विद्यालयों में तंबाकू पर नियंत्रण के लिए साइन बोर्ड लगाया लाएगा। उद्देश्य यह है कि माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को नशाखोरी से बचाया जाए तथा स्वच्छ व स्वस्थ समाज की स्थापना की जा सके।

शासन की मंशा है कि माध्यमिक विद्यालय परिसर के 100 गज परिधि में नशाखोरी को पूर्णतया प्रतिबंधित कर दिया जाए। इससे जहां छात्र-छात्राओं को गलत मार्ग पर जाने से बचाया जा सकेगा, वहीं तंबाकू उत्पात के प्रयोग पर प्रभावी लगाम लग सकेगा। तंबाकू व सिगरेट पर लगाम लगने से आमजन व समाज दोनों को स्वस्थ रखा जा सकेगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जिले में संचालित शासकीय, अशासकीय सहायता प्राप्त, वित्तविहीन मान्यता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों, संस्कृत विद्यालयों, मदरसों एवं अन्य शिक्षण संस्थानों के मुख्य द्वार पर बड़े आकार का साइनबोर्ड लगाया जाए जिससे युवा उसे देखकर तंबाकू उत्पादों का प्रयोग न करें। साइनबोर्ड पर जुर्माना तथा चेतावनी का भी विवरण दर्ज कराया जाए। विद्यालयों के सूचना पट पर भी विद्यालय में इसके प्रयोग पर की जाने वाली कार्यवाही को लिखित रूप से प्रदर्शित किया जाए। जिले में संचालित हो रहे शिक्षण संस्थानों ने यदि विभाग के निर्देश का अनुपालन सुनिश्चित कराया तो पूरे जिले के लगभग लगभग 600 विद्यालयों में साइनबोर्ड लगेंगे। माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के मुताबिक जिले में वर्तमान समय में 225 से अधिक माध्यमिक विद्यालय तथा 19 संस्कृत विद्यालय संचालित हैं। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के मुताबिक कुल 289 मदरसे संचालित हैं। इसके अतिरिक्त लगभग 40 से अधिक अन्य शिक्षण संस्थाएं भी संचालित हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक अशोक कुमार ¨सह ने कहा कि शिक्षण संस्थानों के जिम्मेदारों को तंबाकू पर प्रभावी नियंत्रण के लिए सभी विद्यालयों में साइनबोर्ड लगाना चाहिए। यह छात्र-छात्राओं के साथ सभी को जागरूक करने में सहायक होगा।

Posted By: Jagran