महराजगंज: फरेंदा क्षेत्र के निरनाम पूर्वी के जनकजोत टोला के पास सड़क किनारे बोरे में अधेड़ व्यक्ति का शव मिलने से सनसनी फैल गई। अधेड़ का हाथ-पैर बंाधकर बोरे में रखा गया था। हत्यारों ने उसके चेहरे को जला दिया था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मोर्चरी में रख दिया है। शिनाख्त नहीं होने पर 72 घंटे बाद पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

फरेंदा-लेहड़ा मार्ग से निकल कर गोरखपुर-सोनौली हाईवे को जोड़ने वाले लिक मार्ग जनकजोत गांव के पास मंगलवार दोपहर सड़क किनारे फेंके गए एक बोरे पर मक्खियां बैठी थी। इस दौरान रास्ते से गुजर रहे गांववालों की नजर बोरे पर पड़ी। अनहोनी की आशंका जताते हुए लोगों ने पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर एसएचओ फरेंदा मनीष यादव, एसओ बृजमनगंज व पुरंदरपुर पहुंचे। तीनों थानेदारों की मौजूदगी में बोरे का मुंह खोला गया। अज्ञात अधेड़ का शव मिला। हाथ व पैर बंधा और मुंह जला हुआ था। चेहरा पहचानने लायक नहीं था। अधेड़ की हत्या कर शव को ठिकाने लगाया गया था। पुलिस ने शिनाख्त का प्रयास किया, लेकिन पहचान नहीं हो पाई। आसपास के जिलों में मृतक का फोटो भेजकर शिनाख्त की कोशिश की जा रही है। एसएचओ मनीष यादव ने बताया कि शव में कीड़े पड़ गए हैं। घटना पुरानी है। हत्या कर शव को ठिकाने लगाया गया है।

Edited By: Jagran