महराजगंज: नेपाल में अफगानिस्तान के नागरिकों के पकड़े जाने और भारत के रास्ते अवैध रूप से नेपाल जाने की फिराक की सूचना पर नेपाली प्रशासन ने सरहद पर अलर्ट जारी कर दिया है, जिसके क्रम में सोमवार से सोनौली सीमा सटे बेलहिया चेक पोस्ट पर नेपाल सशस्त्र पुलिस के जवानों ने नेपाल प्रवेश करने वाले लोगों की जांच को तेज कर दिया है। सभी लोगों के पहचान पत्र की आइडी दिखाने के बाद ही नेपाल में प्रवेश करने दिया जा रहा है।

नेपाली प्रशासन ने सरहद पर तैनात भारतीय सुरक्षा एजेंसियों से भी घुसपैठ रोकने में मदद मांगी गई है। भगवानपुर व खनुआ सीमा के अलावा सीमा के पगडंडियों पर भी नेपाल प्रशासन ने निगरानी बढ़ा दी है।

नेपाल सशस्त्र पुलिस के एसपी राजेश उप्रेती का कहना है कि नेपाल में अफगान नागरिकों के पकड़े जाने से भारत से आ रहे सभी नागरिकों की आइडी जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। नेपाल में अवैध रूप से रह रहे 11 अफगान नागरिक पकड़े गए

महराजगंज: नेपाल की राजधानी काठमांडू व उसके आसपास के क्षेत्र में रह रहे अफगानिस्तान के नागरिकों की तलाश में नेपाल प्रशासन सक्रिय हो गया है। अब तक 11 अफगान पकड़ कर नेपाल आब्रजन विभाग के हवाले किए गए हैं। यह लोग अफगानिस्तान में हुए तालिबान के कब्जे के बाद विभिन्न देशों में शरण के लिए भटक रहे हैं। भारत से सोनौली बार्डर के रास्ते प्रवेश किए अफगानी बीते 15 सितंबर व 19 अक्टूबर को काठमांडू में पकड़े गए। वह अपने आप को शरणार्थी बता रहे थे। लेकिन उनके पास संयुक्त राष्ट्र का कोई शरणार्थी पहचान पत्र नहीं था। इसके बाद मामला विदेश मंत्रालय के पास विचाराधीन था। पकड़े गए पांच अफगानी नागरिकों के पास से भारतीय आधार कार्ड व पेन कार्ड भी बरामद हुआ है।

इस मुद्दे पर हुई अहम बैठक के बाद गृह मंत्रालय ने शरण लिए अफगानी नागरिकों को अवैध घोषित करने का फैसला लिया है। उन पर जुर्माना लगा कर नेपाल से निकाले जाने की कवायद शुरू हो गई है। अन्य अफगानी की तलाश में भी जगह-जगह छापेमारी का सिलसिला शुरू हो गया है।

नेपाल आब्रजन विभाग के महानिदेशक नारायण प्रसाद भट्टराई का कहना है कि अवैध रूप से प्रवास लिए अफगानिस्तान के नागरिकों पर आब्रजन कानून के तहत जुर्माना लगाकर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

Edited By: Jagran