जागरण संवाददाता, सोनौली, महराजगंज : भारत-नेपाल की सोनौली सीमा से 26 से 29 मई तक प्रतिदिन 500 भारतीय नागरिक अपने देश वापस लाए जाएंगे। सभी का पंजीकरण इमीग्रेशन में होगा। वापस आने के बाद इन्हें 14 दिन क्वारंटाइन सेंटर पर ठहराया जाएगा। उसके उपरांत उन्हें घर भेज दिया जाएगा। भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी गाइड लाइन के अनुसार नेपाल सरकार से समन्वय स्थापित कर प्रतिदिन 500 भारतीय नागरिक दूतावास के माध्यम से सोनौली सीमा पर पहुंचाए जाएंगे। जहां सभी का इमीग्रेशन में कागजों की जांच के बाद रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। सोमवार को सोनौली बार्डर पहुंचे डीएम डा.उज्ज्वल कुमार, एसपी रोहित सिंह सजवान ने नेपाल प्रशासन से वार्ता कर भारतीय नागरिकों को जारी सूची के मुताबिक बार्डर तक लाने की व्यवस्था का जायजा लिया। डीएम ने कहा कि सोनौली बार्डर के रास्ते अपने देश में प्रतिदिन 500 नागरिकों को लाने के लिए दोनों देश की सरकारों ने गाइड लाइन जारी किया है। इस दौरान सीडीओ पवन अग्रवाल, एडीएम कुंज बिहारी, एसडीएम जसधीर सिंह, सीओ राजू कुमार साव,भैरहवा के विधायक संतोष पांडेय, एसपी रुपंदेही हेम बहादुर थापा, बेलहिया इंस्पेक्टर ईश्वरी अधिकारी, नौतनवा थाना इंस्पेक्टर परमाशंकर यादव आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस