महराजगंज : कोरोना संक्रमण व लॉकडाउन के चलते बहुतों को दर्द मिला हो, लेकिन बड़ी संख्या में लोग ऐसे भी हैं, तो लंबे समय बाद घर परिवार के बीच रहकर खुशियां मना रहे हैं। इन सबके बीच यदि मौका ईद का हो तो खुशी दोगुनी हो जाती है। इन्हीं खुशनसीबों में एक नाम पनियरा थाना क्षेत्र के ग्रामसभा पनियरा निवासी मोहम्मद जियाउल हक का भी है। 14 वर्षों में यह पहली बार है जब जियाउल हक अपने परिवार के बीच ईद मनाएंगे।

मोहम्मद जियाउल हक (40 वर्ष) दूर सऊदी अरब के रियाद में डाटा इंट्री का काम करते हैं। काम की व्यस्तता के चलते देश में आने का मौका चार- पांच साल में ही मिल पाता है। इधर 14 वर्षों से वह कभी अपने परिवार के साथ ईद नहीं मना सके थे। इस वर्ष जनवरी में घर आए तो पूरे विश्व में कोरोना दस्तक दे दिया था। इन्हें मार्च में वापस जाकर ड्यूटी ज्वाइन करनी थी, लेकिन हवाई सेवा बंद होने के कारण सऊदी अरब नहीं जा सके। जियाउल हक को खुशी इस बात की है कि परिवार के साथ ईद मनाने का मौका मिला है। ईद के अवसर पर इनके घर पर रहने से परिजन भी खुश हैं। बेटे जियाउल हक को देख मां फातिमा निहाल हैं। पत्नी रूमी, भाई सनाउल हक सहित परिवार के अन्य सदस्य भी खुश हैं कि आज लॉकडाउन के चलते ही सही परिवार के सभी लोग इस बार एक साथ बैठ कर सेवईं खाएंगे।

---

ईद पर कई बार घर आने के लिए विचार किया था, लेकिन कभी भी छुट्टी नसीब नहीं होती थी। अल्लाह की ही देन है कि इस ईद को अपने परिवार के साथ मनाने का मौका मिला।

मोहम्मद जियाउल हक, पनियरा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस