महराजगंज: माइलस्टोन हेरिटेज स्कूल, पड़री रोड पर उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस दौरान मुख्य अतिथि डा. एसएस पटेल ने कहा कि साहित्य समाज का आइना होता है और साहित्यकार उसे दिखाने वाला समय, काल, देश परिस्थिति चाहे जो भी साहित्य इस भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है। कलम के सिपाही उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद इस श्रृंखला के वे चमकते सितारे हैं, जिनका प्रकाश कभी धूमिल नहीं होगा। विशिष्ट अतिथि श्रवण पटेल ने कहा कि वे जन्में तो परतंत्र भारत में, लेकिन अपनी लेखनी से भारत मां को हमेशा आजाद कराने की कोशिश करते रहे। उनकी लेखनी हमेशा भारत की आजादी की मांग करती रही। सुनील त्रिपाठी ने कहा कि प्रेमचंद ने ¨हदी उपन्यास को लेखन की उस ऊंचाई तक पहुंचाया जहां से वो अपने आपको गौरवान्वित महसूस करती है। विद्यालय के निदेशक सुरेंद्र पटेल ने कहा कि प्रेमचंद के लेखन पर महात्मा गांधी के विचारों की गहरी छाप है, जो उनके कालजयी उपन्यास गोदान और कर्मभूमि में स्पष्ट नजर आती है। इससे पूर्व मुख्य अतिथि ने मुंशी प्रेमचंद के प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन और माल्यार्पण कर शुभारंभ किया। इस दौरान विद्यालय की छात्राओं शालू, देविका और शिवांगी ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया, जबकि शिवम वर्मा, खुशी, साहिबा, कार्तिकेय ने कार्यक्रम प्रस्तुत कर वाहवाही बंटोरी। कार्यक्रम में डा. अमित हालदार, सुशील भारती, अनिषा पटेल, सुमन चौरसिया, सीमा पटेल, आशुतोष पटेल, शायरा आदि उपस्थित रहे।